Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

मीता को राहत मिली-2

sex stories in hindi अब मेरी जीभ उसके खड़े निप्पल को महसूस कर रहे थे। मैंने अपनी जीभ को मीता के उठे हुए खड़े निप्पल पर घुमाना शुरू किया और में उसके दोनों अनारों को कसकर पकड़े हुए था और में बारी बारी से उन्हे चूस रहा था। दोस्तों में जोश में आकर ऐसे कसकर बूब्स को दबा रहा था जैसे कि उन दोनों बूब्स का पूरा का पूरा रस आज ही निचोड़ लूँगा और मीता भी जोश में आकर मेरा पूरा साथ दे रही थी। अब उसके मुहं से ओह्ह्ह्हह आह्ह्ह्हह्ह स्सीईईईइ की आवाज़ निकल रही थी, मुझसे पूरी तरफ से सटे हुए वो मेरे लंड को बुरी तरह से मसल रही थी और मरोड़ रही थी और उसने अपने एक पैर को मेरी जांघ के ऊपर रख दिया और उसने मेरे लंड को अपनी दोनों जांघो के बीच रख लिया। अब मुझे उसकी गरम जाँघो के बीच एक मुलायम रेशमी एहसास हुआ और यह उसकी चूत थी, क्योंकि मीता ने पेंटी नहीं पहन रखी थी और मेरा लंड का टोपा उसकी झांटो में घूम रहा था। अब मेरा सब्र का बाँध टूट रहा था, में मीता से बोला कि मीता मुझे अब कुछ कुछ हो रहा और में आपे में नहीं हूँ प्लीज़ मुझे बताओ ना में अब क्या करूं? मीता कहने लगी कि करो ना मुझे चोदो ना फाड़ डालो मेरी चूत को अब तुम मेरी चुदाई करना शुरू करो।

अब में चुपचाप उसके चेहरे को देखते हुए बूब्स को मसलता रहा था और उसने अपना मुँह मेरे मुँह से बिल्कुल सटा दिया और फुस फुसाकर कहने लगी कि अब तुम अपनी मीता को चोदना शुरू करो और अब तुम्हे किसका इंतजार है? यह बात मुझसे कहते हुए मीता अपने एक हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत के मुहं पर रखकर ठीक निशाने पर लगाकर अंदर जाने का रास्ता दिखा रही थी और फिर रास्ता मिलते ही मेरे लंड का टोपा एक ही धक्के में चूत के अंदर चला गया और इससे पहले की मीता संभले या अपना आसान बदले, मैंने दूसरा धक्का भी लगा दिया और अब मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी मखमल जैसी मुलायम चूत की जन्नत के अंदर चला गया। अब मीता उस दर्द की वजह से चिल्लाने लगी ओह्ह्ह्ह ऊउईईईई हाँ तुम ऐसे ही कुछ देर हिलना नहीं मुझे बड़ी तेज जलन हो रही है तुम्हारे लंड ने मुझे मार ही डाला ऊफ्फ्फ्फ़ मेरे राजा। दोस्तों मीता को बहुत दर्द हो रहा था, क्योंकि आज पहली बार जो वो इतना मोटा और लंबा लंड अपनी चूत में ले रही थी और में उसका दर्द देखकर अपना लंड उसकी चूत में डालकर कुछ देर चुपचाप लेटा ही रहा। फिर कुछ देर दर्द कम होने के बाद मीता की चूत फड़क रही थी और वो अंदर ही अंदर मेरे लंड को जकड़ रही थी और तेज सांसे लेने की वजह से उसके उठे हुए बूब्स बहुत तेज़ी से ऊपर नीचे हो रहे थे।

अब मैंने अपने एक हाथ को आगे बढ़ाकर उसके दोनों बूब्स को पकड़ लिया और फिर निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा था, जिसकी वजह से कुछ देर मीता को कुछ राहत मिली और उसने अपनी कमर को हिलाना शुरू कर दिया। अब मीता मुझसे कहने लगी ऊफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह अब तुम मुझे चोदना शुरू करो और मैंने धक्के देने शुरू किए, उसकी चूत को चीरता हुआ मेरा पूरा का पूरा लंड अंदर चला गया। फिर मीता मुझसे कहने लगी अब तुम लंड को बाहर निकालो, लेकिन में अपने लंड को धीरे धीरे अपनी बहन की चूत के अंदर बाहर करने का काम वैसे ही कर रहा था। फिर मीता ने मुझे अपने धक्को की रफ्तार को तेज करने को कहा और मैंने अपनी रफ्तार को पहले से ज्यादा बढ़ा दिया और में बड़ी तेज़ी से अपने लंड को चूत के अंदर बाहर करने लगा था, जिसकी वजह से अब मीता को पूरी मस्ती आ रही थी और वो नीचे से अपनी कमर को उठा उठाकर मेरे हर एक धक्के का जवाब देने लगी थी। अब उसके रसीले बूब्स मेरी छाती पर रगड़ने लगे थे, उसने अपने गुलाबी होंठो को मेरे होंठ पर रख दिया और वो मेरे मुँह में अपनी जीभ को डालकर मज़े लेने लगी थी और अपनी चूत में मेरा लंड समाए हुए तेज़ी से ऊपर नीचे हो रहा था।

अब मुझे वो सब करके महसूस हो रहा था कि में जन्नत में पहुँच गया हूँ और जैसे ही वो झड़ने के करीब आ रही थी, इसलिए उसकी रफ्तार बढ़ती ही जा रही थी। अब पूरे कमरे में फच फच की आवाज़ गूँज रही थी में और में मीता के ऊपर लेटकर धनाधन धक्के देने लगा था और मीता ने अपने एक पैर को मेरी कमर पर रखकर मुझे जकड़ लिया और वो ज़ोर ज़ोर से अपने कूल्हों को उठा उठाकर चुदाई में साथ देने लगी थी। फिर में भी अब मीता के बूब्स को ज़ोर से मसलते हुए मस्त धक्के लगा रहा था और पूरा कमरा हमारी चुदाई की आवाज़ से भरा हुआ था। फिर मीता अपनी कमर को हिलाकर कूल्हों को उठा उठाकर चुदाई करवा रही थी और वो बोले जा रही थी हाँ ऊफ्फ मेरे राजा में मर गई ऊह्ह्ह्ह चोदो मेरे राजा शुरू करो चोदो मुझे हाँ ले लो मज़ा आज तुम मेरी जवानी का मज़ा और वो अपनी गांड को हिलाने लगी। अब मैंने लगातार 45 मिनट तक उसको धक्के देकर चोदा। में भी बोल रहा था ऊउफ़्फ़्फ़ हाँ ले मेरी रानी आह्ह्ह्ह मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर आहह्ह्ह्ह ऊऊहह्ह्ह क्या जन्नत का मज़ा आह्ह्ह्ह। अब वो अपनी गांड को उठा उठाकर मेरा लंड अपनी चूत में ले रही थी और में भी पूरे जोश के साथ उसके बूब्स को मसल मसलकर अपनी रांड को चोदे जा रहा था।

अब मीता जोश मज़े की वजह से मुझे ललकारकर कहने लगी थी, ऊफ्फ्फ हाँ लगाओ धक्के मेरे राजा हाँ ऐसे ही तुम मुझे चोदो वाह मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है। फिर में जवाब देकर उसको कहने लगा हाँ यह ले मेरी रानी ले हाँ तू पूरा ले अपनी चूत में बुझा ले अपनी प्यास को और मेरे भी जोश को आज ठंडा कर दे। अब वो कहने लगी थी, हाँ ज़रा और ज़ोर से सरकाओ तुम अपना लंड मेरी चूत में मेरे राजा, हाँ मुझे यह अपने अंदर महसूस करके बड़ा अच्छा महसूस हो रहा है। फिर मैंने जोश में आकर तेज धक्के देते हुए उसको कहा कि हाँ यह ले मेरी रानी यह ले तू मेरा लंड यह तो बस तेरे लिए ही है। अब वो जोश में आकर कहने लगी, देखो मेरे राजा मेरी यह चूत तो अब तेरे लंड की दीवानी हो चुकी है हाँ और ज़ोर से और ज़ोर से आईईईई मेरे राजा में गई ऊऊईई काम से कहते हुए मेरी बहन ने मुझे कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया और उसकी चूत ने ज्वालामुखी का लावा छोड़ दिया। अब तक मेरा भी लंड वीर्य को छोड़ने ही वाला था, क्योंकि में करीब बीस मिनट से लगातार उसको मज़े देते हुए धक्के दे रहा था और में उसको कहने लगा हाँ अब में भी आया मेरी जान, मेरा भी अब निकलने वाला है। फिर उसको यह कहते हुए मैंने भी अपने लंड का वीर्य उसकी चूत की गहराईयों में तेज धक्के के साथ निकाल दिया और अब में हाँफते हुए उसकी छाती पर अपने सर को रखकर उसके बदन से कसकर चिपककर लेट गया।

दोस्तों यह थी मेरी अपनी बहन के साथ पहली सच्ची चुदाई की जबरदस्त मज़ेदार कहानी मुझे उम्मीद है कि सभी पढ़ने वालो को यह जरुर पसंद आएगी और इसके अलावा भी मेरे पास आप लोगों की सेवा में रखने के लिए कोई घटना हुई तो में उसको जरुर लिखकर तैयार करूंगा और अब मुझे जाने की आज्ञा दे।

धन्यवाद …

Best Hindi sex stories © 2020