Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

लड़कियों की लण्ड की बातें

kamukta
मॉम तुम अपने ज़माने की बातें कर रही हो . आजकल देखो दुनियां में क्या हो रहा है ? अब वो पहले वाली दुनिया नहीं रही, मॉम . ज़माना बदल गया है . तुम शर्म की बातें कर रही हो, मॉम ? आजकल कौन शर्म करती है ? जो करती है उसे बैकवर्ड कहा जाता है . उसके लिए आगे के रास्ते बंद हो जाते है . वह पिछड़ जाती है .हमें यह सिखाया जाता है की शर्म करने की जरुरत नहीं है . दुनियां से लड़ना सीखो . आगे बढ़ना सीखो . शर्म करोगी तो पीछे रह जाओगी .
मेरे कॉलेज में आजकल सब कुछ खुल्लम खुल्ला होता है, मॉम . एक लड़की का एडमिसन नहीं हो रहा था . तो कुछ लड़कियां प्रिंसिपल के कमरे में घुस गयी और खुले आम गाली देने लगी . तेरी माँ का भोषडा, तेरी माँ की चूत, तेरी बहन को लण्ड साले कुत्ते कमीने भोषड़ी वाले तू अगर एडमिसन नहीं करता है तो यही चोदूँगी तेरी माँ ? बस उस लड़की का एडमिसन तुरंत हो गया . तो ऐसी है दुनिया मॉम ?
लड़कियां आजकल खुल कर लण्ड की बातें करती है, लण्ड के साईज़ की बातें करती है, लण्ड पकड़ने और पीने की बातें करती है, चुदाई की बातें करती है . सबसे ज्यादा बातें तो माँ चुदाने की होती है मॉम ? उनकी बातें सुनकर तो ऐसा लगता है मॉम, की कॉलेज में कोई ऐसी लड़की नहीं है जो अपनी माँ न चुदवाती हो ?
मैं हर दिन या तो लण्ड की बातें सुनती हूँ या फिर माँ चुदाने की . हालाँकि माँ चुदाना, माँ चोदना, माँ चुदवाना, माँ चोदो , माँ चुदाओ, माँ चुदी, माँ चुद गयी सब गालियां है, इसका हकीकत से कोई लेना देना है . पर आजकल ऐसा सोंचना गलत है माँ . आजकल लड़कियां वास्तव में अपनी माँ चुदवाती है . मैंने अपनी आँखों से देखा है अपनी सहेली को अपनी माँ चुदवाते हुए . और लण्ड पकड़ना तो जैसे बड़ी आम बात हो गयी है . जब चाहो तब पकड़ लो लण्ड ? न लण्ड पकड़ने वाली को कोई शर्म और न लण्ड पकड़ाने वाले को . देखा अम्मी तुमने, किस तरह बदल रहा है ज़माना ?
उस दिन मैं कॉलेज में कई लड़कियों के साथ खड़ी थी . ऐसे ही ग्रुप में कुछ बातें होने लगी .
सीमा बोली :- यार , कल मैंने अपनी जीजू का लण्ड पकड़ा ? बड़ा मोटा था बहन चोद लण्ड ?
रेनू बोली :- कितना मोटा था लण्ड उसका ? कुछ अंदाज़ा है तुझे ? और लंबा कितना था ये तो बता, बुर चोदी सीमा की बच्ची ?
सीमा बोली :- यार लंबा तो करीब करीब ७” का होगा और मोटा शायद ४” से ५ ” के बीच होगा .
रेनू फिर बोली :- पूरा टन टना कर खड़ा था कि नहीं ? लण्ड का साईज़ का पता उसके पूरे खड़े होने पर ही चलता है . जब लौड़ा बिलकुल कड़क हो जाये तब उसकी नाप लेनी चाहिए .
आरती बोली :- यार इकोनामिक्स वाले टीचर का लौड़ा तो साला ८”का है यार और मोटा तो ५” है
रीना बोली :- तू क्या अपनी माँ चुदाने गयी थी उससे ? तुझे कैसे मालूम उसके लण्ड का साईज़ ?
आरती बोली :- यार कल मैं उसके घर गयी थी . उसने दरवाजा खोला लेकिन अपना टी वी बंद करना भूल गया . उसमे एक ब्लू फ़िल्म चल रही थी . म्यूट पर थी फ़िल्म . मैंने उसमे एक लड़की को दो लण्ड पीते हुए देखा . मेरी बुर में आग लग गयी . वह तब तक टी वी बंद करने लगा तो मैंने उसके हाथ से रिमोट छीन लिया . मैंने कहा इसे चलने दो मैं पूरी फ़िल्म देख कर जाऊंगी . फिर मैंने कहा अब भोषड़ी के मुझे अपना लण्ड दिखाओ नहीं तो मैं शोर मचा दूँगी . वह बोला अच्छा दिखाता हूँ पर शोर न मचाना ? बस मेरा काम बन गया . मैंने फ़ौरन लण्ड पकड़ा उसका ? बड़ा जबरदस्त लौड़ा है उसका यार ?
सपना बोली :- फिर तूने लौड़ा अपनी बुर में पेला की अपनी माँ के भोषडा में ?
रीना बोली :- अरी सुन तो ? यार लण्ड इतना बढ़िया था कि मेरा मुंह अपने आप खुल गया . मैं लण्ड चूसने लगी और उसका सुपाड़ा चाटने लगी . बाद में वह बहन चोद मेरे मुंह में ही झड़ गया .
साजिया बोली :- लण्ड तो मेरे अब्बू का है मादर चोद ९” लम्बा और मोटा इतना है की मेरी एक मुठ्ठी में आता ही नहीं ? उसका सुपाड़ा ही बहन चोद ४” का है . मुझे तो अपने अब्बू के लण्ड पर फक्र है .
पारुल बोली :- तब तो तेरी माँ का भोषडा फट गया होगा ? अगर किसी की गाड़ मारी होगी तो वह तो मर ही गयी होगी ? पर तूने भोषड़ी वाली कैसे पकड़ लिया अपने अब्बू का लण्ड ?
साजिया बोली :- यार जानती हो ? मेरा अब्बू साला दूसरों की बीवियां चोदता है . उनका भोषडा फटता होगा ? उस दिन मेरी खाला मेरी अब्बू से चुदवा रही थी . तभी अचानक मैं कमरे में चली गयी . खाला बोली साजिया जब तुमने देख ही लिया है तो फिर पकड़ के ठीक से देख लो अपने अब्बू का लण्ड ? तब मैंने पकड़ के देखा .
इतने में क्लास शुरू हो गयी . तो ऐसा माहौल रहता है मेरे कॉलेज में माँ ?
एक दिन क्लास में राबर्ट सर पढ़ा रहे थे .
वह बोले :- फ़िरोज़ा (मेरा नाम ) आज तेरी दोस्त नगमा नहीं आयी .
मैंने कहा :- उसकी माँ चुद गयी, सर ?
सारा क्लास मेरी बात सुन कर हंस पड़ा और सर मेरी तरफ देख कर मुस्करा पड़े . मैं समझ गयी की सर को मज़ा आ गया है .
ऐसे ही एक दिन जब अदा मेम क्लास ले रही थी तो उसने सबसे पूंछा कल तुम सब लोग क्या कर रही थीं ? मेरे मुंह से निकला – माँ चुदा रही थी अपनी ?
अदा मेम नाराज़ हो गयी . वह बोली खड़ी हो जा फ़िरोज़ा . तू बहन चोद आजकल बहुत गालियां बकने लगी है . तेरी तो मैं आज गांड मारूंगी , नहीं मानेगी तो माँ चोदूंगी तेरी . देखती हूँ की कब तक बदतमीजी करती है तू भोषड़ी वाली ? सबने यह महसूस किया की मेम तो ज्यादा गालियां बकती है . उस दिन जाते समय मेम ने मुझे बुलाया और कहा कल मेरे घर आना फ़िरोज़ा ? मैं पहुँच गयी .
वह बहुत खुश हुई और बोली सुनो फ़िरोज़ा आज मैं तुमसे कुछ प्राइवेट बात कह रही हूँ . मैंने कहा हां मेम कहो . वह बोली तुम लड़कों के लण्ड पकड़ती हो . मैंने कहा हां मेम पकड़ती हूँ पर मौका नहीं मिलता ? वह मुझे अंदर के कमरे में ले गयी . वहाँ दो आदमी बैठे थे . मेम बोली फ़िरोज़ा ये दोनों मेरे दोस्त है तुम इनके लण्ड पकड़ो ? मैं तो चाहती ही थी . अदा मेम ने मुझे दोनों लण्ड पकड़ाये और फिर दोनों लण्ड अपने भोषडा में पेलवाया ? दूसरी पारी में मेरी चूत में भी पेला एक एक करके दोनों लण्ड ? मैंने भी खूब मस्ती से चुदवाया, अम्मी
मैंने कहा :- अम्मी मैं चाहती हूँ की तुम भी इन दोनों से चुदवाओ ? मैं किसी दिन इन्हे बुला लूंगी .
अम्मी बोली :- और राबर्ट के लण्ड के बारे में कब बताओगी तुम मुझे ?
मैंने कहा :- अरे अम्मी अभी तो मैंने उसका लौड़ा पकड़ा ही नहीं ? जब पकडूँगी तब बताऊंगी ?
एक दिन और इसी तरह ग्रुप बन गया और सभी लड़कियां कुछ न कुछ सुनाने लगी .
सुनीता बोली :-यार कल मैं अपने पड़ोस की उमा आंटी के घर गयी थी . मैं उनसे खुल कर लण्ड चूत की बातें करती हूँ . मैंने देखा की उमा आंटी एकदम नंगी बैठी हुई है . वह शायद दरवाजा बंद करना भूल गयी थी . इतने में बाथ रूम से एक आदमी एकदम नंगा नंगा निकला . उसका लौड़ा देख कर तो मेरी गांड फट गयी ? आंटी ने अपना मुंह फैलाया और तोप जैसे लण्ड उसके मुंह में घुस गया . मेरी तो लार टपकने लगी . मेरी बुर गरमा गयी . मैं अपनी चूंची मसलने लगी . इतने में आंटी ने मुझे देख लिया . वह बोली अरी बुर चोदी सुनीता वहाँ क्या कर रही है तू . यहाँ आ न मेरे पास ? मैं पास गयी तो बोली ये है तेरे अंकल के दोस्त संजय . मुझे चोदने आया है तू भी पकड़ के देख इसका लण्ड ? अब तू २२ साल की हो गयी है चुदवाया कर अपनी बुर ? मैंने लण्ड पकड़ा तो मज़ा आ गया यार ?
प्रेमा बोली :- तो ठोकवा लेती वही लण्ड अपनी चूत में ? तू क्या कम हरामजादी है ?
शमा बोली :- यार हरामजादी तो मैं हूँ .कल मैंने अपनी माँ चुदवाई . मैं अपनी माँ को लेकर राबर्ट के घर चली गयी . माँ जब बाथ रूम गयी तो राबर्ट बोला शमा आज मैं तेरी माँ चोदूंगा .
जोया बोली :- इसका मतलब तू राबर्ट सर से चुदवाती है ?
शमा बोली :- हां चुदवाती हूँ तो तेरी गांड क्यों फट रही है .
जोया बोली :- मेरी गांड क्यों फटेगी ? चुदवायेगी तू तो तेरी गांड फटेगी न ? तेरी माँ की गांड फटेगी बहन चोद ? और फिर मेरी गांड इतनी कमजोर नहीं है कि पिद्दी भर के लण्ड से फट जायेगी ?
मैंने कहा ;- यार शमा राबर्ट सर के लण्ड का साईज़ क्या है ?
उसने कहा :- ८” और ५” बड़ा मस्त लौड़ा है ? कड़क है और गोरा चिट्टा है .
मैंने कहा :- यार मुझे भी अपनी माँ चुदवानी है . पर तू अपनी बात तो पूरी कर ?
शमा बोली :- जब माँ वापस आयी तो सर अंदर कुछ लेने चले गए . इतने में मैंने कहा अम्मी सर का लण्ड देखोगी ? वह बोली हां देखूँगी और पसंद आया तो अपनी बुर में घुसा लूंगी . तब तक सर आ गए . मैंने कहा हां सर चोद लो मेरी माँ ? लेकिन मेरे सामने ही चोदो ? मैं माँ चुदा लूंगी अपनी ? बस मैंने वही बैठी हुई अपनी माँ चुदाने लगी . हां जब सर का लौड़ा झड़ने लगा तो मैंने भी माँ के साथ लण्ड पिया .
सिमरन बोली :- यार एक बात तो है की माँ चुदाने में मज़ा तो आता है . और माँ जब अपनी बेटी चुदवाती है तो और मज़ा आता है . मैंने भी एक दिन अपने बॉय फ्रेंड से अपनी माँ चुदवाई . उसके दूसरे ही दिन मेरी माँ ने अपने बॉय फ्रेंड बिल्लू का लौड़ा मेरी चूत में घुसेड़ कर मेरी बुर चुदवाई .
हबीबा बोली :- माँ तो मैं चुदवाती हूँ मस्त होकर ? जितने लण्ड बहन चोद मेरे हाथ में आते है वो सब मेरी माँ के भोषडा में घुस जाते है . मेरी दोस्ती कई अंकल से है . मैं एक एक करके अपनी माँ को उनके पास ले जाती हूँ और फिर मजे से चुदवाती हूँ माँ का भोषडा ? माँ भी बहन चोद कम नहीं है ? वह भी मेरी बुर में पेल देती है सबके लण्ड ? मज़ा तो माँ के सामने बुर चुदवाने में भी खूब आता है .
जोया बोली :- तो तू अपनी माँ का भोषडा चोदती है और तेरी माँ तेरी बुर चोदती है ?
हबीबा बोली :- हां और नहीं तो क्या ? जब चोदने और चुदाने निकली हो तो शर्म कैसी ? मेरी अम्मी कहती है कि जब चोदो तो बिंदास चोदो, जब चुदाओ तो बिंदास चुदाओ . मेरी अम्मी लण्ड खूब चोदती है .
जोया बोली :- यार मेरी भी माँ चुदवा दो प्लीज ? मुझे भी सिखा दो माँ चुदाना ? मैं भी चुदाऊंगी माँ ?
तो लड़कियों की इस तरह की बातें होती है कॉलेज में अम्मी . एक से एक हरामी लड़की है मेरे कॉलेज में जिसकी कहो उसकी माँ चोद दें ? जिसकी कहो उसकी गांड मार दें ? अम्मी ने कहा बड़ा अच्छा कॉलेज है बेटी तेरा . ये सब मेरे समय में कहाँ होता था . हम लोग तो एक एक लण्ड के तरस जाया करती थी . मैंने कहा अम्मी अब तुम नहीं तरसोगी . अब जितने लण्ड कहो उतने लण्ड पकड़ा दूं तुम्हे ?
मैं तुम्हे एक दिन की और कहानी सुनाती हूँ . जाड़े का समय था . धूप निकली हुई थी . हम कुछ लड़कियां दूर कॉलेज के कैम्पस में कड़ी बातें करने लगी .
मैंने कहा :- यार आजकल जिसको देखो वही लण्ड की बात करती है बुर चोदी ?
साजिया बोली :- हां यार , कल सोफिया मेम बोली साजिया मुझे मालूम है की तुम अपने अब्बू का लण्ड पकड़ती हो ? मुझे अपने अब्बू के लण्ड का साईज़ बताओ ? मैंने जब बताया की ९” है तो उसकी गांड फटने लगी और आँखे निकल आयी .
शमा बोली :- हां यार आजकल टीचरें भी लण्ड के साईज़ में दिलचस्पी रखती है . मुझेसे भी करीना मेम ने राबॅर्ट के लण्ड का साईज़ पूंछा . मैंने बताया तो वह बोली की एक दिन मुझे भी पकड़ाओ उसका लण्ड ?
पिंकी बोली :- यार विक्रम सर का लौड़ा बड़ा मोटा है बहन चोद ? तुम लोग भी कभी पकड़ के देखना ?
पद्मा बोली :- हां तुमने ठीक कहा पिंकी उसका तो सुपाड़ा गोल गोल छतरी जैसा लगता है ? मुझे तो सुपाड़ा चाटने में खूब मज़ा आया था लेकिन वह बहन चोद मेरे मुंह में ही झड़ गया .
गुंजन बोली :- यार अपने क्लास में राना है न ? उसका लण्ड बिलकुल राबर्ट सर के लण्ड की तरह है ?
मैंने कहा :- तू भोषड़ी की दोनों के लण्ड पकड़ चुकी है और मुझे बताया भी नहीं ?
वह बोली :- फ़िरोज़ा तुम्हे तो अपनी माँ चुदाने से ही फ़ुर्सत नहीं है ? मैं तुम्हे भी ले जाती लण्ड पकड़ाने पर तू कहीं माँ चुदाने गयी थी अपनी ?
तुलसी बोली :- राना का लौड़ा मैंने भी पकड़ा है .मैंने उसका सड़का मारा है और लण्ड पिया है बड़ा टेस्टी है लौड़ा ? मेरा मन बार बार पीने का होता है . कल मैं फिर पियूंगी उसका लण्ड .
मेघा बोली :- और इंग्लिश टीचर जैकब सर के लण्ड के बारे में जानती हो ? उस दिन सर मुझे अपनी कार में बैठा अपने घर ले गए थे . वह जब अपने कपडे बदल रहे थे तो मुझे उसके लण्ड की एक झलक मिल गयी . मेरे रोंगटे क्या मेरी चूत की झांटे भी खड़ी हो गयी . मेरे मुंह से निकला सर, अपना लौड़ा दिखाओ न प्लीज . उसने मुझे चिपका लिया और तब मैं उसका लौड़ा टटोलने लगी . थोड़ी देर में वह भी नंगा मैं भी नंगी . बड़ा मज़ा आया यार उसका लौड़ा पकड़ कर और पी कर ? मैं तो कहती हूँ की तुम सब लोग उसका लौड़ा पी कर देखो .

दूसरे दिन मैं राबर्ट सर के घर चली गयी . मैंने कहा भोषड़ी के राबर्ट माँ के लौड़े मादर चोद तुम सबको अपना लौड़ा पकड़ाते हो और मुझे नहीं ? मैंने क्या गुनाह किया है बहन चोद ? क्या मेरे पास चूत नहीं है ? क्या मेरी चूंचियां नहीं है ? क्या मेरी गांड नहीं है ? भोषड़ी के तुझे और क्या चाहिए ? वह बोला अरे फ़िरोज़ा तू क्यों गुस्सा कर रही है लो पकड़ लो मेरा लण्ड ? जो चाहो करो मेरे लण्ड का ? ऐसा कह कर वह अपना लण्ड खोल कर मेरे आगे खडा हो गया ? मैंने लण्ड पकड़ा और कहा सर मेरी माँ चोदोगे ? वह बोला हां चोदूंगा ? तब मैंने कहा तो फिर चलो मेरे घर और वही मेरी माँ चोदो . मुझे भी चोदो . मेरी माँ का भोषडा चोदो मेरी चोदो बुर ? इस तरह मैंने रात भर चुदवाई अपनी माँ और माँ का भोषडा ? ०

Best Hindi sex stories © 2020