Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

गर्मी के समय पसीने भरे लंड से लडकी की चुदाई

desi chudai ki kahani, hindi sex story

हाय दोस्तो, आपके लिए मेरे पास एक कहानी है | आज मैं आपको मेरे जीवन में घटित हुई एक असली कहानी को उजागर करने जा रहा हूँ | आज इस कहानी को सुनाने में मुझे शर्म तो आ रही है लेकिन मुझे ऐसा करने में कोई समस्या भी नही है | क्योकि आप मुझे नही पहचान सकते हो | कॉलेज में पढने वाली एक लड़की को मैंने पटाया था और उसे अपनी गाडी में घुमाया करता था | जब मेरे पास फुर्सत का समय होता था तब मैं उसे अपनी मोटरसाइकिल से कभी आम सडको पर लेकर घूमता था और कभी उस लड़की को किसी खास जगह पर ले जाया करता था | चलिए अब जानते है कि मैंने उस लड़की को कहाँ पर चोदा | ये घटना मेरी जिन्दगी में तब हुई जब मैं एक फार्म हाउस में छुट्टी बिताने के लिए गया था | गर्मी का समय था और मेरे कॉलेज बन्द हो गए थे | तब मुझे एक अवसर मिला था कि मैं छुट्टी को बिताने के लिए अपने एक मित्र के घर पर जा सकता था | मेरा मित्र भी मेरे साथ कॉलेज में पढता था | जब वो कॉलेज मे पढाई करता था तब वो मेरे पास आया करता था ताकि मैं उसकी पढाई में सहायता कर सकूँ | मेरी सहायता से वो पढाई काफी सरलता से कर पाता था और बड़े नम्बर से पास भी होता था | अब उस मित्र का और मेरा आखरी साल बचा था इसलिए हम जोर दार तयारी करने में लगे हुए थे ताकि शानदार प्रतिशत से कॉलेज का आखरी साल भी पास कर ले | कॉलेज के समय मैं जवान था | जवानी में कुछ नया करने के लिए मैंने उस लड़की को पटाया था |

वो लड़की जब मुझ से पट गयी थी तब मैं उसे एक नदी के पास घुमाने के लिए ले कर गया | मेरे शहर में ८ खास नदियाँ हैं | मैंने इनमे से कुछ नदियो के किनारों पर घूम चूका हूँ | इसके आलावा मैंने उस कॉलेज की लड़की को भी नदी के पास ले जाकर घुमा चूका हूँ | नदियो के किनारे घूमने का शौक मुझे है क्योकि नदी के किनारे एक सुनेहरा माहोल होता है | उसके अलावा एक एजीब सी शान्ति भी मिलती है मन को | नदियो की मछली को देखना मुझे पसन्द आता है इसलिए मैं मछली को देखने के लिए भी जाया करता था और उनको दाना भी डालता था | जब कॉलेज बन्द हो गया तो मुझे मालूम चला कि वो लड़की कही बाहर दुसरे शहर घुमने के लिए गयी है | उस लड़की का फोन नम्बर मेरे पास था | इसलिए जब वो किसी और शहर में गयी हुई थी तो मैंने उसके फोन नम्बर पर फोन लगाया और पाया कि वो लड़की उसकी मामी के घर छुट्टी पर घुमने के लिए गयी है | उसकी मामी एक सभ्य बंदी थी इसलिए वो लड़की छुट्टी में उसके मामा के घर घुमने के लिए जाया करती थी | उस लड़की के बाहर चले जाने से मुझे कोई फर्क नही पड़ा |

इसलिए मैं उस समय अपनी गर्मी की छुट्टी को बिताने के लिए अपने मित्र के घर गया | वो बाहर के शहर से मेरे शहर आया हुआ था | उसके पापा का मकान एक दुसरे शहर में था | वो कॉलेज की पढाई करने के लिए मेरे शहर एक किराए के कमरे में रहा करता था | उसकी एक गर्लफ्रेंड भी थी | वो उस लड़की के लिए उसका शहर छोडकर आया था | कॉलेज में पढाई करना वैसे तो एक बहाना था | वाह रे मोहब्बत आशिक कि गांड मर जाए पर चूत न मिल पाए !! वो उसके पापा से कहा करता था कि उसको कॉलेज में पढना है लकिन कोई बढ़िया सा कॉलेज ही हो क्यूंकि पैसा उसके पास बहुत था | मेरे शहर में उसकी गर्लफ्रेंड भी कॉलेज में पढाई कर रही थी | अब वो पढाई करने के बहाने मेरा मित्र कॉलेज जाया करता था और वो उस लड़की से मिला करता | वो लड़की देखने में सुन्दर थी | मैं भी उस लड़की को पटाने में लगा रहता था ताकि उस लड़की को चोद सकू |

मेरे मित्र को मालूम था की मैं उसकी गर्लफ्रेंड की चूत के पीछे पड़ा हुआ हूँ इसलिए वो मुझे उसकी गर्लफ्रेंड से दूर रहने के लिए कहा करता था | जब मैं उसकी गर्लफ्रेंड को पास पहुचने में असमर्थ रहा ताकि मैं उसकी चुदाई कर सकू तब मैंने एक नयी लड़की को पटाने का फैसला किया | मैं कॉलेज की लड़की को पटाने की कोशिश में लग गया | मैं अपने मित्र को देखकर कुछ नया सीखा करता था जिससे मेरा काम आसान हो जाए | जैसे वो उसकी गर्लफ्रेंड के लिए रुपय खर्च किया करता था | वो उसकी गर्लफ्रेंड की परवाह करता था और वगैराह वगैराह | पर मैंने एक दिन अपने मित्र को उसकी गर्लफ्रेंड को चोदते हुए देखा | वो उसके किराये के कमरे में उसको चोद रहा था जहाँ वो रहता था | मैं अपने मित्र से मिलने के लिए उसके निवास के पास गया और मैंने वहां पर जो मन्जर देखा वो अजीब था क्योकि वो उस लड़की के चूत को उसकी जीभ से चाट रहा था | मेरा मित्र नंगा था जब वो इस कारनामे को अंजाम दे रहा था | उसकी गर्लफ्रेंड भी नंगी थी | मैं दरवाजे के छेद से उनकी चुदाई को देख रहा था | चुदाई लम्बी थी इसलिए मैंने छेद की सहायता से जो देखा वो मेरे लिए एक नया अनुभव था | वो लड़की उस कॉलेज से कुछ दूर पर रहती थी | मेरा मित्र के लंड को उस लड़की ने अपने चूत में ले लिया | वो उसकी चूत का भूखा था इसलिए वो उसका शहर छोडकर आया ऐसा मुझे मालूम चल रहा था | चूत को चोदते समय वो अह अह चिल्ला रहा था | फिर उस लड़की को उसने घोड़ी बना लिया और पीछे से उसकी चूत में अपना लंड अन्दर डाला और उस लड़की की चुदाई कर रहा था | कुछ देर बाद उस लड़की को मेरे मित्र ने उपर उठाया और गोदी में ले कर उस लड़की को चोद रहा था | वो लड़की को चोदने में व्याकुल था इसलिए वो काफी देर तक उस लड़की के बदन से खेल रहा था | ये वाक्य हुआ पर मैंने उससे कुछ नहीं कहा और मैं उसके साथ छुट्टी बिताने चला गया | मेरे मित्र के पापा का एक फार्म हाउस था | मैंने अपने मित्र से अनुरोध किया कि क्यों न हम लोग तुम्हारे पापा के फार्म हाउस में रुक लेते है | मैं जब उसके फार्म हाउस पर गया तो मैंने पाया की उसके फार्म हाउस के आंगन में झाड लगा हुआ है | मैंने अपने मित्र से कहा कि तुम्हारे आंगन में झाड़ लगे हुए है इसलिए तुम्हे उन्हे साफ करवाना पड़ेगा ताकि हम लोग आसानी से आंगन में घूम सके | मेरे कहने पर उसने फार्म हाउस के गार्डन को साफ करना शुरु कर दिया | गार्डन को मेरे मित्र ने और मैंने साफ किया था | खास तब हुआ जब उसकी गर्लफ्रेंड भी उसके शहर उससे मिलने के लिए आने वाली थी | एक दिन मैं और मेरा मित्र उसके फार्म हाउस में टीवी देख रहे थे तब उसने उसकी गर्लफ्रेंड को फोन लगाया और उसकी गर्लफ्रेंड को उसके शहर आने के लिए तैयार करवा लिया | उसकी गर्लफ्रेंड किसी रिश्तेदार से मिलने के लिए उसके शहर आई हुई थी | उसने उसकी गर्लफ्रेंड को फोन लगाया और कहा तुम तुमाहरी एक सहेली को लेकर आना | उसकी सहेली भी देखने में सुन्दर होगी ऐसा मैंने सोचा | हम लोग उसकी गर्लफ्रेंड से एक खास जगह पर मिले |

मेरे मित्र ने उस दिन उसके लिए कुछ खास करने के लिए तयारी की थी जैसे उसने एक होटल में चलने के लिए कहा था | लेकिन मैंने अपने मित्र को सुझाव दिया अगर तुम ऐसा करोगे तो तुम्हे उस लड़की के परिचित पकड सकते है | इसलिए उसने मेरे सुझाव को अहमियत दी और हम लोग ने अलग रहकर भोजन खाया | उस दिन हम लोग सुबह से घुमने के लिए निकले थे और करीब रात में १२ बजे घर पर लौटकर आये थे | लडकियो ने उनके चेहरो पर गमछा पहना हुआ था ताकि कोई उन्हे पहेचान न ले | फिर जब रात हो गयी तो मेरे मित्र ने उस लड़की को एक घर की दीवाल के पीछे ले जाकर कुछ ऐसा किया जिससे जानकर आप चकित हो जाओगे | वो उसकी गर्लफ्रेंड को दीवाल के पीछे ले जा कर चोद रहा था | उसकी सहेली भी उससे मिली हुई थी इसलिए वो भी चुदाई के लिए तैयार थी | जब मेरा मित्र उसकी गर्लफ्रेंड को चोद रहा था | तब मैं उसकी गर्लफ्रेंड की सहेली के साथ किसी होटल के पराठे का लुफ्त उठा रहा था | ऐसा करना मेरे लिए एक नया अनुभव था क्योकि मैं पहेली बार किसी लड़की को एक होटल में ले जा कर कुछ खिला रहा था | जब रात हो गयी तो मैंने अपने मित्र के फोन नम्बर पर फोन लगाया और कहा तुम्हारा चुदाई करने का कारनामा पूरा हो चूका है क्या | तो उसने मुझे फोन पर बताया हाँ हो चूका है | तब हम लोग घर लौट गए | लेकिन घर लौटते वक्त मेरा मित्र उसकी गर्लफ्रेंड के गालो को चूम रहा था | हमने एक ऑटो रिक्शा लिया हुआ था और ओटो रिक्शा से हम घर लौट रहे थे | उसने मुझे ओटो रिक्शा के आगे बैटने के लिए कहा था |

मैं ओटो रिक्शा के आगे बैठा हुआ था और उसकी सारी हरकत देख रहा था | उसकी गर्लफ्रेंड की सहेली उसकी हरकत को देखकर हस रही थी | मैं अपने मित्र की हरकत को पलटकर देख रहा था | जब मैं उसे पलटकर देख रहा था तो वो उसकी गर्लफ्रेंड के होटो को चूम रहा था | इसके आलावा वो उसकी गर्लफ्रेंड के दूध को दबा रहा था | ऐसा करने पर उसे कोई फर्क नही पड़ रहा था क्योकि कोई भी उसे नही पकड सकता था उस वक्त जब वो ओटो पर बैठा हुआ था | इसके अलावा ओटो रिक्शा चालक भी आटो रिक्शा चलाने में मग्न था | पहेले हम लोगो ने उन लडकियो को उनके रिस्तेदार के घर के कुछ दूर पर छोड़ा | फिर उसके बाद हमने ओटो रिक्शा चालक से कहा की आप हमे हमारे घर पहुचा दो | वो चालक मेरे मित्र का परिचित था उसने हमे फार्म हाउस पर ला कर छोड़ा | रात का समय था और उसकी गर्लफ्रेंड ने उसको फोन लगाया और कहा तुम मुझे कल घुमाने ले चलोगे तो मेरे मित्र ने उससे कहा हाँ | मैं कल तुम्हे घुमाने के लिए तैयार हूँ | सुबह का समय था मेरे मित्र ने उससे फोन लगाया कि तुम क्या कर रही हो ? तब उसकी गर्लफ्रेंड ने बताया की वो कपडे पहन रही है | मेरा मित्र तैयार हो चूका था तभी मैंने अपने मित्र को सलाह दी कि तुम तुम्हारी गर्लफ्रेंड को तुम्हारे फार्म हाउस में आने के लिए कहो | मेरी सलाह पर उसकी गर्लफ्रेंड फार्म हाउस में उसकी सहेली के साथ आई थी | फार्म हाउस में मैंने अपने मित्र के लिए कुछ खास पकवान लाये थे जिसे हमने उसकी गर्लफ्रेंड के साथ खाया | मैंने छुट्टी अपने मित्र के साथ गुजारी पर चुदाई माहि हो पायी मेरी | धन्यवाद |

Best Hindi sex stories © 2020