Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

एक अच्छी सी जॉब -1

sex stories in hindi

सबसे पहले तो सभी लण्डबाजों और चूत की रानियों को मेरा नमस्कार ! मेरा नाम मुकेश है, मैं कानपुर का रहने वाला हूँ, मैं अभी पढ़ रहा हूँ ! यह मेरी पहली कहानी है, अगर इसमें कोई ग़लती या त्रुटि हो तो क्षमा करना !

मेरी अभी पढ़ाई ख़त्म नहीं हुई थी कि मुझे दिल्ली में एक अच्छी सी जॉब मिलने की उम्मीद हो गई, मैं वहाँ पर अपना इंटरव्यू देने गया था। वहाँ पर काफ़ी लड़के-लड़कियाँ अपना अपना इंटरव्यू देने आए थे ! हम सभी बारी बारी से अपना इंटरव्यू देते जा रहे थे मेरा इंटरव्यू लेने के बाद उन्होंने बाहर रुकने के लिए कहा। मैं जिस रूम में जाकर बैठा, वहाँ पर पहले से ही काफ़ी लड़के और लड़कियाँ मौजूद थे। मेरे बगल में एक लड़का बैठा हुआ था। थोड़ी देर के बाद वो लड़का बाहर चला गया और उसके थोड़ी देर बाद वहाँ पर एक लड़की आकर बैठ गई।

उसने मुझे देखा और कुछ सोचने लगी, शायद वो भी वही सोच रही थी जो मैं सोच रहा था।

नहीं नहीं ! दोस्तो, मैं ऐसा नहीं सोच रहा था जैसा अभी आप सोच रहे हो।

उसने मुझसे पूछा- आप कहाँ से आए हैं?

तो मैंने उसे बता दिया- मैं कानपुर से आया हूँ !

फिर मैंने उससे पूछा- आप कहाँ से आई हैं?

तो उसने बताया- मैं इलाहबाद से आई हूँ। आप वापस कब जाएँगे?

तो मैंने कहा- देखता हूँ कि कब जाता हूँ, अभी रिज़ल्ट तो आ जाए इंटरव्यू का !

तो बोली- हाँ यह भी ठीक है !

उसने मुझे बताया- मुझे इलाहबाद आज वापस भी जाना है !

फिर हम दोनों आपस में बाते करते रहे, एक दूसरे की पढ़ाई के बारे में पूछा, फिर थोड़ी देर के बाद एक लड़का आया और उसने रागिनी नाम से बुलाया।

अभी तक मैंने उससे उसका नाम नहीं पूछा था और उसने मेरा भी नाम नहीं पूछा था।

तो मुझे क्या मालूम था कि उसी का नाम रागिनी था, वो खड़ी हुई और उसके साथ दूसरे कमरे में चली गई। फिर थोड़ी देर के बाद वो वापस आ गई। मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?

तो उसने मज़ाक के मूड में कहा- हुआ क्या? कुछ भी तो नहीं हुआ ! जैसी थी वैसी ही हूँ !

वो बहुत ही खुश थी, तो मैं समझ रहा था कि शायद उसका सेलेक्शन हो गया है।

उसने बाद में बताया- मेरा तो हो गया !

जब उसने मुझसे कहा कि ‘मेरा तो हो गया’ तभी मैंने उससे मज़ाक के मूड में कहा- अभी मैंने तो कुछ भी नहीं किया ! मैं तो आराम से बैठा हुआ हूँ और ‘आपका हो कैसे गया?’

वो थोड़ा हंसी और फिर बोली- आप भी ना…

मैंने कहा- क्या?

तभी फिर से वो लड़का आया और मेरा नाम बुलाया तो मैं उठाकर जाने लगा। तभी रागिनी बोली- जाओ और जाकर देखो कि क्या होता है, फिर बताना !

मैंने उससे पूछा- आप जा रही हैं क्या?

वो बोली- हाँ, मैं तो जा रही हूँ।

और वो वहाँ से चली गई, मैं भी उस लड़के साथ दूसरे कमरे में चला गया वहाँ पर उसने मुझे बताया- आपको हमारी कंपनी में चुन लिया गया है ! अभी आप जा सकते हैं आपको कॉल करके बुला लिया जाएगा।

मैं वहाँ से आ गया, मैंने अपना बैग उठाया और बाहर आ गया। मैंने बाहर आकर देखा कि वो लड़की बाहर खड़ी किसी से फोन पर बात कर रही थी।

तो मैंने सोचा की शायद उसका बॉयफ़्रेंड होगा तो मैंने उसे डिस्टर्ब करना उचित नहीं समझा और मैं वहाँ से जाने लगा।

पर तभी उसने मुझे बुलाया और बोली- मैं तुम्हारे लिए यहाँ पर रुकी हूँ और तुम चले जा रहे हो अकेले ही?

तो मैंने उससे पूछा- आप मेरे लिए क्यूँ रुकी?

तो उसने कहा- मैंने सोचा कि आपको भी अभी रिजल्ट बता दिया होगा तो फिर अगर आप घर जाएँगे तो मैं भी आपके ही साथ निकल जाऊँगी क्यूंकि दिल्ली से जो भी बस इलाहबाद जाती है, वो कानपुर होते हुई ही तो जाती है, आप रास्ते में उतर जाएँगे और मेरे साथ बात करने के लिए भी कोई मिल जाएगा ! और रात का सफ़र है तो कोई तो होना चाहिए किसी अकेली लड़की के साथ !

तो मैंने बोला- बात आपकी सही है !

फिर हम दोनों एक साथ ही बस स्टॉप पर पहुँचे और एक बस में बैठ गये जहाँ पर मैं बैठा था जाकर, वो वहाँ पर नहीं बैठी, वो दूसरी जगह जाकर बैठ गई, फिर मुझसे बोली- आप भी यहीं पर आ जाइए।

मैं उसी के पास जाकर बैठ गया !

बस वहाँ से करीब शाम को आठ बजे करीब चली ! हम दोनों थोड़ी देर तक शांत बैठे रहे, फिर कुछ देर के बाद वो बोली- आप तो बिल्कुल भी बात नहीं कर रहे हैं? आप को कोई बात करनी नहीं आती क्या?

मैं समझ नहीं पा रहा था कि वो क्या कहना चाहती है। हम दोनों बात करने लगे !

पाँच घंटे बाद बस एक होटल पर रुकी तो मैंने उससे पूछा- आपको कुछ खाना है क्या?

वो- क्या खिलाओगे?

मैंने कहा- कुछ भी खाना हो तो बोलो !

तो वो मेरी तरफ देखकर हंसते हुए बोली- आप जो कुछ भी खिलाएँगे !

तो मैंने कहा- क्यूँ नहीं !

तो वह थोड़ी मुस्कुरा कर बोली- चलो मैं भी चलती हूँ, वहीं चलकर देख लेते हैं कि क्या मिल रहा है !

Best Hindi sex stories © 2020