Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

दोस्त की ख़ुशी के लिए कॉल गर्ल बुलाई

hindi sex stories, kamukta

मेरा नाम रोहन है मैं आगरा का रहने वाला हूं, मेरी उम्र 25 वर्ष है। मेरा कॉलेज पूरा होने के बाद से मैं  घर पर ही था लेकिन मेरे जीवन में एक बहुत बड़ी दुर्घटना हुई, जिसकी वजह से मुझे आगरा छोड़ कर कोलकाता आना पड़ा। मेरे पड़ोस में ही एक लड़का रहता था जिसका मेरे एक दोस्त के साथ बहुत ही झगड़ा रहता था। एक दिन उन दोनों के बीच बहुत ज्यादा झगड़ा हुआ और मैं जब उनके बीच में गया तो मैंने भी उस लड़के को बहुत ज्यादा पीटा, जिससे कि वह बहुत घायल हो गया और मैं बहुत ज्यादा डर गया, मेरे घर वाले मुझसे पहले से ही परेशान थे और वह हमेशा ही कहते कि तुम यदि जल्दी से नहीं बदले तो तुम किसी से कोई बड़ी दुर्घटना जरूर कर दोगे। जब वह लड़का बहुत ज्यादा घायल हो गया तो मुझे लगा कि अब मुझे कहीं और चले जाना चाहिए क्योंकि उसके घर वालों ने पुलिस में भी कंप्लेंट कर दी थी और मैं वहां से भागकर कोलकाता आ गया।

मैंने उसके बाद से ना तो अपने घर वालों से कोई संपर्क किया है और ना ही मेरा किसी भी मेरे परिचित के साथ कोई संपर्क है लेकिन मुझे कई बार अपने घर वालों की बहुत याद आती है और मैं सोचता हूं कि मैं उन्हें फोन करूं लेकिन मेरी हिम्मत नहीं होती कि मैं उन्हें फोन कर के कुछ बताऊं,  मैंने उन्हें अभी तक ना तो फोन किया और ना ही मैं उनके साथ बात कर रहा हूं। मैं जब कोलकाता आया तो मेरी जेब में ज्यादा रुपए भी नहीं थे और मैं बहुत ही परेशान था लेकिन मेरी एक लड़के के साथ दोस्ती हो गई, वह जिस मोहल्ले में रहता है उसने मुझे वहीं पास में रहने के लिए एक घर भी दिलवा दिया। मुझे नहीं पता कि उसने मेरी इतनी मदद क्यों की लेकिन उसका मुझ पर बहुत बड़ा एहसान है इसलिए मैं उसको बहुत ज्यादा सम्मान देता हूं, उसका नाम अजय है। अजय हमेशा ही मेरा बहुत साथ देता है और जब मैं कोलकाता में नया आया था तो उसने ही मेरा पूरा साथ दिया था और मुझे उसने एक जगह काम पर भी लगा दिया था जिससे कि मैं अपना खर्चा खुद ही उठा पाऊं। मैं अपना खर्चा खुद ही उठाता हूं लेकिन इसके पीछे अजय का ही हाथ है, अजय को जब मैंने अपनी स्थिति के बारे में बताया तो वह कहने लगा तुम बिल्कुल भी चिंता मत करो, मैं तुम्हारे साथ में हूं, उसने ही मुझे रहने के लिए घर दिलवाया था।

जब उसने मुझे घर दिलवाया तो उसने मकान मालिक को पैसे दे दिए थे। अजय एक अच्छी कंपनी में नौकरी करता है और जब वह मेरे पास बैठा हुआ था तो मैंने उसे बताया कि मेरे साथ में मेरा दोस्त रहता था और उसका झगड़ा हमारे पड़ोस में हो गया इसलिए मैंने भी उस लड़के को बहुत बुरी तरीके से पीट दिया जिससे कि वह घायल हो गया और उसके बाद पुलिस हमारे घर पर आ गई इस वजह से मैं घर से भाग गया। अजय मुझे समझाने लगा कि तुम अपने घर पर बात करो, मैंने अजय से कहा कि नहीं मेरी हिम्मत नहीं होती कि मैं अपने घर पर बात करू, इसी वजह से मैंने अपने घर पर भी बात नहीं की। अजय कहने लगा तुम क्यों चिंता करते हो, एक बार तुम अपने घर पर तो बात कर के देखो, मैंने अजय से कहा कि मैं कुछ समय अकेले ही रहना चाहता हूं और जब तक मैं अपने जीवन में कुछ अच्छा नहीं कर लेता तब तक मैं अपने घर पर फोन नहीं करने वाला। अजय कहने लगा, चलो अब तुमने यह ठान लिया है तो तुम अपने जीवन में दोबारा से इस प्रकार की गलती नहीं करोगे। मैंने अजय से कहा कि मैं अब बिल्कुल भी यह गलती नहीं करने वाला क्योंकि जिस प्रकार की गलती मैंने की है उससे मुझे बहुत ही बड़ा सबक मिला है यदि मैं उसके साथ झगड़ा नहीं करता तो शायद आज मुझे अपने घर से भी भागना नहीं पड़ता और ना ही मैं अपने घरवालों से अलग होता। अजय मुझसे हमेशा ही पूछा करता की क्या तुम अपने घर वालों से प्रेम करते हो, मैंने उसे बताया कि हां मैं अपने घर वालों से बहुत ही प्रेम करता हूं क्योंकि उन्होंने हमेशा ही मेरी जरूरतों को पूरा किया है लेकिन मैंने हमेशा ही उनके सर को नीचा किया है, मैं चाहता हूं कि मेरी वजह से अब उन्हें किसी भी प्रकार की शर्मिंदगी ना झेलनी पड़े।

अजय मुझसे कहने लगा कि तुम जब तक अपने जीवन में बदलाव नहीं लाओगे तब तक तुम एक अच्छे इंसान भी नहीं बन सकते हो, इसीलिए मैंने भी अपने जीवन में बदलाव लाने की कोशिश की थी और उसमें मेरा अजय ने बहुत साथ दिया। जबसे मेरी जॉब लगी तो उसके बाद से मैं अपने काम पर ही बिजी रहने लगा, अजय और मेरे बीच में भी बहुत अच्छी दोस्ती होने लगी, मुझे नहीं पता था कि अजय और मेरे बीच में इतनी अच्छी दोस्ती हो जाएगी। अजय की एक गर्लफ्रेंड है, अजय ने जब मुझे उसके बारे में बताया तो मैंने उससे कहा कि क्या तुम उससे शादी करने वाले हो,  वह कहने लगा कि अभी तो हम लोग शादी नहीं करेंगे,  हम कुछ समय तक एक दूसरे के साथ रहना चाहते हैं, उसके बाद ही हम लोग शादी करेंगे। जब अजय ने मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से मिलाया तो मुझे उससे मिलकर अच्छा लगा और अजय ने मेरे बारे में उसे सब कुछ बता दिया, उसकी गर्लफ्रेंड भी मुझे बहुत समझाती रहती थी लेकिन अब उन दोनों के बीच में रिलेशन नहीं है परंतु उसके बावजूद भी वह दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं। जब उन दोनों का ब्रेकअप हुआ था तो अजय मुझे अपने साथ लेकर गया था और उस दिन मैंने भी उसकी गर्लफ्रेंड को बहुत समझाया लेकिन वह बिल्कुल भी समझने को तैयार नहीं थी।

वह कहने लगी कि अजय और मैं अच्छे दोस्त हैं लेकिन अब हम दोनों रिलेशन में साथ नहीं रह सकते क्योंकि अजय की गर्लफ्रेंड का किसी और लड़के के साथ रिलेशन चलने लगा था इसी वजह से वह अजय के साथ नहीं रहना चाहती थी। उस दिन अजय का भी बहुत ज्यादा मूड खराब था, अजय ने मुझे यह बात नहीं बताई लेकिन जब मैंने उसे उदस देखा था तो मैंने उससे बोला कि तुम मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से मिलवाओ, एक बार मैं उससे जरूर बात करना चाहता हूं। जब मैंने उससे बात की तो मुझे लगा कि शायद वह समझ जाएगी लेकिन वह बिल्कुल भी समझने को तैयार नहीं थी, अजय उस दिन बहुत ज्यादा दुखी था, उस दिन अजय मेरे घर पर ही रुका। मुझे अजय को उदास देखकर अच्छा नहीं लग रहा था इसलिए मैंने कहा कि क्यों ना आज कहीं घूमने का प्लान बनाया जाए, अजय कहने लगा कि मेरा बिल्कुल भी मूड नहीं है और ना ही मैं कहीं जाना चाहता हूं, मैंने अजय से कहा कि तुम एक बार मेरे साथ चलो तो, तुम्हें अच्छा लगेगा। अजय मुझे कहने लगा नहीं मेरा मूड बिल्कुल भी अच्छा नहीं है, मैं घर पर ही रहना चाहता हूं, मुझे उसे उदास देखकर बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था इसलिए मैं सोचने लगा कि क्यों ना अजय के लिए कुछ ऐसा किया जाए जिससे वह खुश हो जाए। मैंने अजय की गर्लफ्रेंड को फोन किया तो उसने फोन उठा लिया और मैंने अजय से उसकी बात करवा दी,  अजय मुझ पर गुस्सा हो गया और कहने लगा कि तूने उसे फोन क्यों किया, मैंने अजय से कहा कि मुझे तुम्हारा दुख नहीं देखा जा रहा था इसलिए मैंने उसे फोन कर दिया, मुझे लगा कि शायद तुम्हें अच्छा लगेगा जब तुम मुझसे बात करोगे। वह बहुत ज्यादा दुखी हो गया था इसलिए मैंने एक कॉल गर्ल को फोन कर के घर पर बुला लिया क्योंकि मैं अक्सर किसी ने किसी लड़की को अपने घर पर बुलाता था इसलिए मेरे पास काफी लड़कियों के नंबर थे। मैंने जब उस आइटम को अपने घर पर बुलाया तो अजय उसे देख कर खुश हो गया। उस हसीना ने उसके सारे कपड़े उतार दिए और अजय ने उसे बहुत ही अच्छे से चोदा। मैं यह बैठकर देख रहा था अजय ने उसे दो तीन बार चोदा। अजय थक चुका था इसलिए वह बिस्तर पर लेट गया और मुझे कहने लगा कि अब मेरा मूड बहुत ही अच्छा है। मैंने अजय से कहा कि तुम्हारे भी मुझ पर बहुत एहसान हैं इसलिए मैं नहीं चाहता कि तुम दुखी रहो। मैंने अब उस लड़की की जवानी का रसपान करने के बारे में सोचा।

मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो उसने तुरंत ही मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और बहुत अच्छे से सकिंग करने लगी। काफी देर तक उसने मेरे लंड को चूसा जिससे कि अब मैं भी पूरे मूड में आ चुका था। मैंने जब अपने लंड पर तेल को लगाया तो मेरा लंड पूरा चिकना हो गया और मैंने जैसे ही उस रंडी की गांड में अपने लंड को डाला तो वह चिल्लाने लगी। मैंने उसकी चूतड़ों को कसकर पकड़ लिया और बड़ी तेजी से झटके मरने लगा। वह बहुत तेज  चिल्ला रही थी लेकिन मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था इसीलिए मैं उसे बड़ी तेज तेज धक्के मार रहा था। वह बहुत ही खुश हो रही थी और अपनी चूतडो को मुझसे मिला रही थी। वह कहने लगी जिस प्रकार से आप मुझे धक्के दिए जा रहे है तो मुझे बहुत ही मजा आ रहा है। मैंने उसे कहा कि तुम्हारी गांड मारने में मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा है। वह कहने लगी मुझे अब तुम्हें एक्स्ट्रा पैसे देने पड़ेंगे क्योंकि हमारी बात सिर्फ चूत मारने की हुई थी लेकिन तुमने मेरी गांड भी मारी है इसलिए तुम्हें अब मुझे ज्यादा पैसे देने पड़ेंगे। मैंने उसे कहा तुम पैसों की चिंता मत करो बस तुम मुझे खुश करती रहो। वह भी अपननी चूतडो को बड़ी तेजी से मेरी तरफ मिला रही थी मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने उसे कहा कि तुम ऐसे ही धक्के मारते रहो और मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। वह कहने लगी मैं तुम्हें खुश कर दूंगी तुम उसकी चिंता मत करो तुम और भी तेजी से मुझे झटके दो। मैंने जब उस रंडी को बड़ी तेज तेज धक्के मारे तो उसकी गांड से खून भी निकलने लगा था और मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था। मैं जिस प्रकार से उसे धक्के देता जाता तो मेरा भी लंड पूरी तरीके से छिल चुका था। जब मेरा वीर्य उसकी गांड के अंदर गिरा तो वह खुश हो गई और मुझे भी बहुत अच्छा लगा।

Best Hindi sex stories © 2020