Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

अब क्या बिस्तर तोड़ोगे ?

Antarvasna, sex stories in hindi: मुझे आज भी गौरव की शादी याद है जब मैं और प्रतिभा पहली बार मिले थे गौरव की शादी पिछले साल ही हुई थी उसी शादी के दौरान मेरी मुलाकात प्रतिभा से हुई। जब मैं प्रतिभा से पहली बार मिला तो मुझे उससे मिलकर बहुत ही अच्छा लगा और कहीं ना कहीं वह भी मुझसे मिलकर बहुत खुश थी। गौरव की शादी के बाद ही हम दोनों एक दूसरे को डेट करने लगे थे प्रतिभा लखनऊ की रहने वाली है और वह मुंबई में पिछले दो सालों से रह रही है। गौरव को वह पहले से ही जानती थी इसलिए गौरव और उसकी अच्छी दोस्ती थी लेकिन अब मैं और प्रतिभा एक दूसरे को डेट करने लगे थे और यह बात गौरव को भी पता थी। हम दोनों की नजदीकियां काफी बढ़ चुकी थी और हम दोनों एक दूसरे के साथ काफी समय बिताया करते हैं। प्रतिभा और मैं एक दूसरे के साथ रिलेशन में थे और हम दोनों बहुत ही खुश थे मुझे जब भी प्रतिभा की कोई जरूरत पड़ती तो वह हमेशा मेरे साथ खड़ी रहती है।

एक दिन मुझे कुछ पैसों की जरूरत थी तो मैंने प्रतिभा से कहा उसने उसी वक्त मेरी मदद कर दी और कहा कि अजीत कभी भी तुम्हें कुछ चाहिए होता है तो तुम मुझसे कह दिया करो। प्रतिभा के पापा एक बड़े बिजनेसमैन है लेकिन उसके बावजूद भी प्रतिभा अपने बलबूते कुछ करना चाहती थी इसलिए वह मुंबई आ गई। उसके पापा कई बार उसे कहते हैं कि तुम लखनऊ आ जाओ तुम्हें किस चीज की कमी है लेकिन प्रतिभा लखनऊ नहीं जाना चाहती प्रतिभा को मुंबई में ही अच्छा लगने लगा है। एक दिन प्रतिभा ने मुझे बताया कि उसके पापा उसे फ्लैट गिफ्ट करने वाले हैं उसके बाद प्रतिभा ने फ्लैट ले लिया, मैं भी उसके फ्लैट में गया था हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत खुश थे। मैं भी एक प्रतिष्ठित मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करता हूं और मुझे वहां पर नौकरी करते हुए 4 वर्ष हो चुके हैं मैं अपने परिवार के साथ ही मुंबई में रहता हूं मेरे पापा रेलवे विभाग में नौकरी करते हैं।

एक दिन मेरी मां ने मुझे बताया कि मेरी बहन नैना को देखने के लिए लड़के वाले आने वाले हैं नैना की उम्र 25 वर्ष की है और वह मुझसे दो वर्ष ही छोटी है। नैना की कॉलेज की पढ़ाई भी काफी समय पहले पूरी हो चुकी थी और उसके बाद कुछ समय तक वह जॉब करती रही लेकिन उसने अब जॉब से रिजाइन दे दिया है और वह घर पर ही रहती है। पापा और मम्मी चाहते थे कि उसकी शादी हो जाए इसलिए उस दिन उसे लड़के वाले देखने के लिए आ रहे थे मैं भी घर पर ही रुक गया मैंने अपने ऑफिस से छुट्टी ले ली थी। अब नैना को देखने के लिए लड़के वाले आ चुके थे और नैना को भी लड़का काफी पसंद था इसलिए उन दोनों की जल्द ही सगाई हो गई उन दोनों की सगाई हो जाने के बाद मैं चाहता था कि मैं भी प्रतिभा के बारे में घर पर बता दूं लेकिन मैंने सोचा कि थोड़े समय बाद ही प्रतिभा के बारे में मैं घर पर बताऊंगा। नैना की सगाई हो चुकी थी और जब उसकी शादी थी तो मैंने प्रतिभा को भी शादी में बुलाया था उसी दौरान मैंने अपने परिवार से प्रतिभा को मिलाया। पहली बार ही प्रतिभा पापा मम्मी से मिली थी इसलिए वह बहुत खुश थी और पापा मम्मी को मैंने इस बारे में बता दिया था कि मैं और प्रतिभा एक दूसरे से शादी करना चाहते हैं उन्हें भी इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी क्योंकि प्रतिभा बहुत ही अच्छी और सुंदर है। नैना की शादी हो जाने के बाद वह लोग चाहते थे कि मेरी सगाई भी प्रतिभा से हो जाए प्रतिभा घर इकलौती है इसलिए उसके पापा भी उसकी खुशियों को ही सबसे ऊपर रखते थे और वह मेरे साथ प्रतिभा की शादी करवाने को तैयार हो गए। वह लोग अब मेरी और प्रतिभा की शादी के लिए तैयार हो चुके थे हम दोनों की सगाई हो चुकी थी और जल्द ही हम लोग शादी करने वाले थे लेकिन प्रतिभा चाहती थी कि हम लोग जयपुर में शादी करें। प्रतिभा को जयपुर काफी पसंद है इसलिए वह हमेशा से ही चाहती थी कि उसकी शादी जयपुर में हो मैंने जब इस बारे में पापा से कहा तो पापा को भी इससे कोई परेशानी नहीं थी और हम लोगों ने मिलकर जयपुर में सारा अरेंजमेंट करवा दिया। कुछ दिनों के लिए हम सब जयपुर में ही थे जब हम लोगों की शादी हो गई तो उसके बाद हम लोग मुंबई वापस लौट आए और मुंबई वापस लौटने के बाद हम दोनों अपना शादीशुदा जीवन बहुत ही अच्छे से बिता रहे थे। यह सब इतनी जल्दी हुआ कि कुछ पता ही नहीं चला कि कब मेरे और प्रतिभा के बीच इतनी नजदीकियां बढ़ गई और हम दोनों की शादी हो गई। प्रतिभा और मैं एक दूसरे से शादी कर के बहुत ही खुश थे।

जब हम दोनों की शादी की पहली रात थी तो उस दिन हम दोनों कुछ अलग करना चाहते थे मैंने उस दिन प्रतिभा से कहा आज मैं सुहागरात को कुछ स्पेशल बनाना चाहता हूं। प्रतिभा भी इस बात से खुश थी इससे पहले हम दोनों के बीच किस हुआ था और एक दो बार उसने मेरे लंड को सकिंग भी किया था लेकिन हम दोनों के बीच कभी शारीरिक संबंध नहीं बन पाए थे। उस दिन हम एक दूसरे के साथ शारीरिक संबंध बनाना चाहते थे मैंने प्रतिभा को अपनी बाहों में ले लिया था। जब वह मेरी बाहों में थी तो हम लोगों ने बात की हम लोग अपनी पुरानी यादों को ताजा करने लगे प्रतिभा मुझे कहने लगी मैं बहुत ही खुश हूं क्योंकि तुमसे मेरी शादी हो पाई। मैंने उसे कहा मै भी बहुत खुश हूं कि तुमसे मै शादी कर पाया मुझे तो उम्मीद भी नहीं थी कि तुम से मेरी शादी होगी लेकिन तुम्हारे पापा हमारी शादी के लिए तैयार हो चुके थे इस से बढ़कर खुशी मेरे लिए और कुछ भी नहीं है।

मैंने प्रतिभा के स्तनों को दबाना शुरू कर दिया और धीरे धीरे मैंने उसकी चूत के अंदर भी अपनी उंगली को डालना शुरू किया तो वह मुझे कहने लगी क्या तुम मेरी चूत के अंदर अपने लंड को नहीं डालोगे मैं बहुत ज्यादा तड़पने लगा। उसने मेरे लंड को हिलाना शुरू कर दिया था मैंने उसे कहा तुम मेरे लंड को चूसती रहो और उस दिन उसने काफी देर तक मेरे लंड को सकिंग किया और मेरे वीर्य को बाहर निकाल दिया। उसने मेरे वीर्य को मेरे लंड से बाहर निकाल दिया था और उसने उसे अपने अंदर ही समा लिया। अब वह बिल्कुल भी नहीं रह पा रही थी उसने मुझे कहा मुझसे बिल्कुल भी नहीं रहा जा रहा है मैंने उसके कपड़े उतारे और उसके स्तनों को चूसने लगा उसके स्तनों को चूसकर मुझे अच्छा लग रहा था उसके स्तनों को जब मैंने अपने मुंह में लिया तो मुझे और भी ज्यादा आनंद आने लगा और वह भी बहुत ज्यादा खुश हो चुकी थी। मैंने अब उसकी चूत के अंदर लंड को घुसाया और धीरे धीरे लंड अंदर चला गया वह मचलने लगी और कहने लगी तुम जल्दी से अंदर लंड डालो। मैंने अपने लंड को उसकी योनि के अंदर प्रवेश करवाया तो वह बहुत जोर से चिल्लाई और कहने लगी मेरी सील टूट चुकी है उसकी योनि से खून बाहर के निकलने लगा था। उसकी चूत से बहुत ज्यादा खून निकल चुका था वह अपने आपको बिल्कुल भी नहीं रोक पाई और मुझे कहने लगी मैं अपने आपको बिल्कुल भी नहीं रोक पा रही हूं। मैंने उसे कहा रोक तो मैं भी नहीं पा रहा हूं यह कहने के बाद मैंने जैसे ही उसके साथ बड़ी तेजी से संभोग करना शुरू कर दिया था। प्रतिमा की चूत की गर्मी को मै ज्यादा देर तक झेल नही पाया था इसलिए मेरा वीर्य उसकी चूत मे गिर गया। मैंने उसकी चूत को साफ करने के बाद दोबारा से उसकी चूत पर लंड लगाया और अंदर की तरफ धकेलना शुरू किया। जब मैंने ऐसा किया तो वह बहुत ज्यादा खुश हो गई और मुझे कहने लगी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है अब मैं लगातार तेज गति से उसकी चूत पर प्रहार कर रहा था।

जब मैं ऐसा कर रहा था तो मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैंने उसे कहा मुझे बहुत ही मजा आ रहा है उसने मेरा काफी देर तक साथ दिया। मैंने उसके पैरों को अपने कंधों पर रख लिया मुझे उसे चोदने मे मजा आ रहा था उसके बाद मैंने उसकी चूत के अंदर बाहर अपने लंड को किया फिर उसे घोड़ी बना दिया घोडी बनाने के बाद तो जैसे वह मेरी हो चुकी थी। मैंने उसे इतनी तेजी से चोदना शुरू किया की प्रतिमा मुझे कहने लगी लगता है आज आप सुहागरात मे बेड तोड डालोगे। मैंने उसे कहा कोई बात नहीं प्रतिभा तुम तो जानती ही हो मैं तुम्हारा इतने समय से इंतजार कर रहा था और आखिरकार आज हम एक हो ही गए। जब हम दोनों एक दूसरे के हो चुके हैं। मैंने जब प्रतिभा से कहा मुझे बहुत मजा आ रहा है लेकिन मैं ज्यादा समय तक तुम्हारा साथ नहीं दे पाऊंगा मैंने उसे कहा मेरा वीर्य गिरने वाला है तुम मेरे वीर्य को अपने मुंह में ले लो उसने अपने मुंह को खोल कर मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया।

जब वह मेरे लंड को चूसने लगी तो मुझे भी लगने लगा कि मेरा वीर्य जल्दी गिरने वाला है और मेरा वीर्य जैसे ही उसके मुंह में गिरा तो मुझे बहुत अच्छा लगा। हम दोनो एक साथ लेटे हुए थे उस दिन हम दोनों एक दूसरे की बाहों में सो गए और हमें पता ही नहीं चला कि कब हम दोनों को नींद आ गई लेकिन अगले दिन जब सुबह प्रतिभा मेरे लिए चाय लेकर आई तो मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसे अपनी ओर खींचा और उसे मैंने बिस्तर पर पटक दिया। जब मैंने उसकी चूत को सहलाना शुरू किया तो वह अपने पैरों को खोल कर मेरे सामने लेट गई और मैंने सुबह के वक्त भी उसके साथ सेक्स संबंध बनाए। काफी देर तक मैंने उसके साथ सेक्स किया उसके बाद जब मेरी इच्छा पूरी हो गई तो मैंने प्रतिभा से कहा आज मजा आ गया। हम दोनों अपनी शादीशुदा जिंदगी से बहुत खुश हैं मुझे प्रतिमा बहुत ज्यादा प्यार करती है।

Best Hindi sex stories © 2020