Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

विलायत में विलायती चूत

Antarvasna, hindi sex kahani: भैया अभी तक घर लौटे नहीं थे मैंने भैया के नंबर पर फोन किया तो उनका नंबर लग नहीं रहा था घर में सब लोग चिंतित हो गए थे और समय भी काफी हो चुका था। भैया हमेशा ही समय पर घर पहुंच जाया करते लेकिन अभी तक वह घर नहीं पहुंचे थे जिसकी वजह से सब लोग परेशान थे और अभी तक किसी ने भी खाना नहीं खाया था। मेरी मां कहने लगी कि बेटा तुम कमल के दोस्तों को फोन करना तो मैंने मां से कहा हां मैं अभी उन्हें फोन करता हूं। मेरे पास भैया के दोस्त का नंबर था तो मैंने उन्हें कॉल किया वह मुझे कहने लगे कि कमल तो ऑफिस से समय पर निकल गया था सब लोग इस बात से बहुत परेशान थे। भैया अभी तक घर नहीं पहुंचे थे ना हीं भैया का फोन लग रहा था थोड़ी देर के बाद भैया जब घर आए तो उनके माथे पर पसीना था और वह बहुत परेशान नजर आ रहे थे।

मैंने उन्हें पानी का गिलास दिया और वह पानी पीते हुए मुझे कहने लगे कि राजेश आज मेरे साथ बहुत बड़ी दुर्घटना हो गई मैंने कमल भैया को कहा आखिर हुआ क्या। मां भी चिंतित थी वह पूछने लगी कि कमल बेटा ऐसा क्या हुआ तो कमल भैया ने मां से कहा जब मैं ऑफिस से घर लौट रहा था तो उस वक्त कुछ लोग मेरा पीछा कर रहे थे और उन्होंने मुझे रास्ते में रोकते हुए मुझसे मेरा सामान छीन लिया और उन्होंने मेरा मोबाइल भी मुझसे छीन लिया था। मैंने भैया से कहा भैया लेकिन आपको तो उन्होंने कुछ नहीं किया ना, तो भैया कहने लगे कि नहीं उन्होंने मुझे तो कुछ नहीं किया लेकिन मेरी गाड़ी को उन्होंने तोड़ दिया जिससे कि मुझे मेरी गाड़ी को ठीक करवाना पड़ा। मैंने भैया से बोला भैया क्या आपकी किसी के साथ कोई दुश्मनी थी तो भैया कहने लगे कि राजेश तुम्हें तो मेरा स्वभाव पता है मैं किसी के साथ भी बेवजह की बातें नहीं करता। मां कहने लगी हां राजेश तुम्हारे भैया बिल्कुल ठीक कह रहे हैं कमल कहां किसी के साथ बेवजह की बातें करता है। भैया के साथ जब यह घटना हुई तो मैं बहुत परेशान हो गया था मैंने भैया से पूछा था कि भैया क्या आपने इस बारे में पुलिस स्टेशन में कंप्लेंट नहीं करवाई। भैया कहने लगे कि पुलिस स्टेशन में जाने के बारे में पहले मैं भी सोच रहा था लेकिन फिर लगा कि छोड़ो जाने दो।

भैया की गाड़ी को भी उन्होंने काफी नुकसान किया था जिससे कि भैया को अपनी गाड़ी का काम करवाना पड़ा। मां इस बात से बहुत ही ज्यादा चिंतित रहती थी और हमेशा ही मां को लगता था कि कमल भैया की अब शादी करवा देनी चाहिए। कमल भैया की अभी तक शादी नहीं हुई थी और कुछ समय बाद कमल भैया के लिए लड़की देखनी शुरु कर दी थी और भैया को एक लड़की पसंद भी आ गई। जब भैया को वह लड़की पसंद आई तो भैया और रूपा भाभी की सगाई हो गई और कुछ ही समय बाद उनकी शादी हो गई। रूपा भाभी अब हमारे घर की बहू बन चुकी थी और भैया रूपा भाभी को बहुत प्यार करते हैं उन दोनों के प्यार की मिसाल हमारी पूरी कॉलोनी के लोग देते हैं। भैया और रूपा भाभी के बीच कभी भी कोई झगड़ा नहीं हुआ इसी बीच मुझे भी एक विदेशी कंपनी से नौकरी का प्रस्ताव आ गया मैंने सोचा कि क्यों ना मैं भी वह विदेशी कंपनी ज्वाइन कर लूं और मुझे उसके लिए दुबई जाना था। मैंने जब इस बारे में भैया से पूछा तो भैया कहने लगे कि राजेश ऐसा मौका बार-बार नहीं आता तुम्हें दुबई चले जाना चाहिए भैया मेरे दुबई जाने के पक्ष में थे लेकिन मैं अपने परिवार को नहीं छोड़ना चाहता था। जब भैया ने मुझसे कहा कि तुम्हें चले जाना चाहिए तो मैंने भी सोचा कि भैया ठीक ही कह रहे हैं मुझे अब दुबई चले ही जाना चाहिए और मैं दुबई जाने की तैयारी करने लगा। जब मैं दुबई गया तो वहां पर मुझे कंपनी की तरफ से रहने के लिए एक घर दे दिया गया था मैंने अब अपनी कंपनी ज्वाइन कर ली थी और मैं बड़े ही अच्छे से काम कर रहा था। मुझे काम करते हुए करीब 6 महीने हो गए 6 महीनों का कुछ पता ही नहीं चला कि 6 महीने कैसे बीत गए जब 6 महीने पूरे हो चुके थे तो मैंने सोचा कुछ समय के लिए अपने घर हो आता हूं। मैं कुछ समय के लिए अपने घर छुट्टी लेकर आ गया मैं जब अपने घर पर आया तो मां बहुत खुश थी कमल भैया और भाभी कहने लगे कि तुम्हारी नौकरी तो ठीक चल रही है।

मैंने उन्हें कहा हां मेरी नौकरी तो ठीक चल रही है कमल भैया का भी अब अपनी कंपनी में प्रमोशन हो चुका था सब लोग मुझसे बहुत खुश थे और कुछ दिनों तक उन्होंने मेरी बड़ी खातिरदारी की। मैं 15 दिनों के लिए छुट्टी पर आया था तो 15 दिनों का कुछ पता ही नहीं चला कि 15 दिन कैसे निकल गए 15 दिन अब खत्म होने आए थे और मुझे अपने काम पर लौटना था। मेरा जाने का बिल्कुल भी मन नहीं था लेकिन मुझे जाना तो था ही और मैं दुबई लौट गया जब मैं दुबई लौटा तो मैंने उस वक्त भैया और भाभी को फोन कर दिया था। दुबई में मेरी दोस्ती भी अच्छी हो गई थी दुबई में सबसे पहले मेरी मुलाकात निखिल से हुई थी निखिल से जब मैं मिला तो उससे मिलकर मुझे बहुत अच्छा लगा और निखिल से मेरी दोस्ती बहुत गहरी हो गई। निखिल बड़ा ही हंसमुख और अच्छा लड़का है निखिल के साथ मेंरी बहुत जमने लगी और हम दोनों रात को साथ में ही पार्टी पर अक्सर जाया करते थे। मैं जब भी निखिल के साथ होता तो मुझे बहुत अच्छा लगता था अब समय बड़ी तेजी से निकल रहा था कुछ पता ही नहीं चला कि कब मुझे दुबई में काम करते हुए दो वर्ष हो गए।

दुबई मे 2 वर्ष हो गए कुछ पता ही नहीं चला हमारे ऑफिस में जेनेलिया काम करती है जेनेलिया ऑस्ट्रेलिया की रहने वाली है। वह कुछ समय पहले ही हमारे ऑफिस में आई थी उसकी सबसे अच्छी बातचीत मेरे साथ ही थी मैं भी जेनेलिया को अक्सर देखा करता था। मैं जब भी उसकी आंखों में ध्यान से देखता तो मुझे उसकी आंखों में मेरे प्रति कुछ तो नजर आता था उसकी आंखें मेरे लिए कुछ बयां करती थी वह मेरी अच्छी दोस्त थी। एक दिन जब वह मेरे फ्लैट में आई तो मैं और जेनेलिया साथ में बैठे हुए थे मैंने जेनेलिया को कहा तुम ड्रिंक करोगी? वह कहने लगी हां, हम दोनों ड्रिंक साथ में करने लगे क्योंकि जेनेलिया काफी खुले विचारों की है इसलिए उसे इन सब बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता। हम दोनों ने कुछ ज्यादा ही ड्रिंक कर ली थी उसके बाद मेरा जेनेलिया के साथ सेक्स करने का मन होने लगा जेनेलिया के होठों को जब मैंने चूमा तो वह मुझे कहने लगी फक मी। जब उसने अपने बदन से कपड़े उतारने शुरू किए तो उसके गोरे बदन को देखकर मैं अपने आपको रोक नहीं पा रहा था क्योंकि उसका बदन इतना ज्यादा गोरा था कि मैंने आज तक इतना गोरा बदन जिंदगी में कभी नहीं देखा था वह मेरी होने वाली थी। मैंने उसके होठों को बहुत देर तक चूसा बहुत देर तक चुम्मा चाटी के बाद जब उसने मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू किया तो मुझे बड़ा अच्छा लगने लगा़ वह मेरे लंड चूसती जैसे कि मेरे लंड को खा ही लेगी उसने अपने मुंह के अंदर तक मेरे लंड को ले लिया था और बड़े अच्छे तरीके से वह मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर बाहर कर रही थी। उसने मेरा लंड से पानी निकाल कर दिया था मैं बहुत ही ज्यादा उत्तेजित होने लगा मैंने कहा मैं बिल्कुल भी रहा नहीं पा रहा हूं। जेनेलिया ने मुझसे कहा तुम मेरी गोरी चूत को चाट लो उसने अपने पैरों को खोला मैंने उसकी गोरी चूत पर जीभ लगाना शुरू किया उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था। जब उसकी चूत को चाट रहा था तो उसकी चूत से पानी बाहर निकल रहा था वह पूरी तरीके से उत्तेजित होने लगी थी।

हम दोनों ही अपने आप को नहीं रोक पा रहे थे जेनेलिया ने मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर घुसाना शुरू किया। मैंने भी धीरे-धीरे अपने लंड को जेनेलिया के अंदर तक डाल दिया था जैसे ही मेरा लंड जेनेलिया के अंदर घुसा तो वह चिल्ला उठी मुझे बड़ा मजा आया। मैंने उसे बड़ी तेजी से धक्के देने शुरू कर दिए वह मेरा पूरा साथ दे रही थी और अपने मुंह से वह बडी ही मादक आवाज निकाल रही थी उन आवाजों से मैं और भी ज्यादा उत्तेजित हो जाता। मैंने उसके दोनों पैरो को अपने कंधों पर रख लिया उसकी जांघ भी बहुत ज्यादा मोटी थी और उसकी चूत का टाइटपन मुझे महसूस हो रहा था। मैं लगातार तेजी से उसे चोद रहा था उसकी चूत के अंदर बाहर मेरा लंड होता तो वह मेरा पूरा साथ देती और उसे बहुत मजा आ रहा था। काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के बदन की गर्मी को ऐसे ही महसूस करते रहे हम दोनों अपने आप को रोक नहीं पा रहे थे। मैंने जब उसके सुनहरे बालों को सहलाना शुरू किया तो वह मेरे होंठो को चूमने लगी मैं लगातार उसे तेजी से धक्के मार रहा था।

मैंने उसे घोड़ी बनाया और घोड़ी बनाते ही जब मैंने अपने लंड को उसकी चूत के अंदर प्रवेश करवाया तो वह चिल्ला उठी। वह कहने लगी यह हुई ना बात वह मुझसे अपनी चूतडो को मिला रही थी मैंने काफी देर तक ऐसे ही उसे धक्के दिए। जब मेरा वीर्य गिर गया तो उसने मेरा लंड को अपने मुंह में लेकर दोबारा से खड़ा कर दिया। मेरा लंड दोबारा से खड़ा हो चुका था मैं पूरी तरीके से उत्तेजित हो चुका था मैंने जेनेलिया की गांड के अंदर लंड को घुसाया उसने मुझे अपनी गांड के बड़े अच्छे मजे दिए। उसकी बड़ी गांड जब मैं मार रहा था तो मुझे ऐसा लगता है जैसे कि मैं जन्नत में पहुंच गया हूं बहुत देर तक मैंने ऐसे ही उसकी गांड का आनंद लिया मेरा वीर्य को मैंने जेनेलिया के मुंह के अंदर उड़ेल दिया। जेनेलिया और मेरे बीच में उसके बाद भी कई बार शारीरिक संबंध बने लेकिन उसे इन सब चीजों से कोई फर्क ही नहीं पड़ता था वह बिंदास होकर मुझसे चुदती थी।

Best Hindi sex stories © 2017