Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

फूली हुई चूत-2

hindi porn kahani फिर में उसे कश्मीरी सेब समझकर ज़ोर-ज़ोर से उसकी चूत को कुत्ते की तरह चाटने लगा। तभी चाँद ने आअहह, हहाईईईई में मरी राजा, मार डाला कहते हुए अपना पानी छोड़ दिया। अब में कुत्ते की तरह उसकी चूत को चाटने लगा था, क्या स्वाद था? जिसने चखा है वही जानता होगा। अब में उसकी चूत को खा जाना चाहता था, अब मैंने उसकी चूत को चाट-चाटकर लाल कर दिया था। फिर मैंने अपना तना हुआ हथियार उसके मुँह में डालना चाहा, तो वो मना करने लगी। फिर मैंने कहा कि रानी अपने पूरे पैसे मुझसे वसूल लो, फिर बाद में कुछ मत कहना। तो फिर वो शर्माते हुए मेरा धोड़े जैसा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। अब मेरा लंड तो शैर जैसा होने लगा था, अब इधर में भी उसकी मदमस्त चूत को 69 पोज़िशन में चाट रहा था। फिर 15 मिनट बाद मैंने उसकी बड़ी-बड़ी नाज़ुक और कठोर चूची पर अपना सारा माल गिरा दिया। अब चाँद भी झड़ चुकी थी, फिर हम दोनों ने उठकर बाथरूम में जाकर अपने आपको साफ किया और फिर वापस आकर में उसकी चूची को फिर से सहलाने लगा था।

अब चाँद भी मेरे लंड को सहलाने लगी थी तो कुछ ही देर में हम दोनों अपनी गर्मा गर्म जवानी के साथ चुदाई की जंग के लिए अपना अपना हथियार लेकर फिर से तैयार हो गये। फिर क्या था? चाँद कुत्तिया बनी और में कुत्ता बना और अपने लंड को उसकी गोरी-गोरी नशीली चूत पर निशाना साधकर ऐसा झटका मारा कि उसका पूरा शरीर भूकंप की तरह मचल गया और उसकी चूत की दरार फटने लगी। अब उसकी घमंडी चूत का सामना पागल हाथी के लंड से होने जा रहा था। अब वो चिल्ला उठी थी, लेकिन में नहीं माना और उसकी चूत में अपना लंड पेलता रहा। फिर मैंने कहा कि रंडी पहले चुदवाना नहीं चाहती थी, अब देख में कैसे तेरी चूत का भोसड़ा बनाता हूँ? फिर हर 5 मिनट के बाद में अपनी चोदने की स्टाइल चेंज करता रहा (दोस्तों ये बहुत ही प्राइवेट बात है अगर आप 5 मिनट में स्टाइल चेंज करोंगे तो जल्दी नहीं झडोगें और सुसताने का मौका भी मिल जाएगा, आजमा कर देखना) अब उसकी तो हालत पतली होने लगी थी, क्योंकि लगभग 30 मिनट से में उसे कुत्ते की तरह अपने घोड़े के लंड से धक्के मार-मारकर चोद रहा था।

अब उसकी चूत सूज गयी थी, अब इस बीच चाँद 3 बार झड़ चुकी थी तो वो बोली कि बस हो गया। तो में बोला कि मेरा तो अभी नहीं हुआ। फिर मैंने उससे कहा कि अगर तेरी चूत की हालत खराब हो गयी है तो अपनी गांड में ले लो, तो काफ़ी ना नुकुर के बाद वो मान गयी। फिर मैंने उसकी गांड की खूब चटाई की और फिर थोड़ी देर के बाद अपना लंड उसकी रसीली मदमस्त गांड के छेद पर रखकर धीरे-धीरे घुसाने लगा। तो वो चिल्लाने लगी, फिर मैंने कहा कि धीरज रखो बहुत मज़ा आएगा। अब में भी रुक-रुककर उसकी चूचीयों को दबाने लगा था और फिर ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा। अब वो भी मस्त होकर मुझसे अपनी गांड मरवाने लगी थी। फिर मैंने उसकी गांड की ऐसी चुदाई की वो अपना पानी 2 बार छोड़ चुकी थी। तो तब कही जाकर मेरे लंड ने उसकी गांड में होली की पिचकारी की तरह अपने लंड से वीर्य की पिचकारी मारी। अब वो सिसकारियां भरने लगी थी और फिर चाँद निहाल हो गयी।

फिर उस रात में उसे 3 बजे तक चोदता रहा। फिर में 3 बजे अपना पैसा, जो खुश होकर उसने 1000 रुपये दिए थे, वो लेकर घर चला गया। फिर लगभग 4 महीने के बाद एक दिन वो मुझे सिटी बस में मिली, वो गर्भवती थी। फिर मैंने उससे पूछा तो वो बोली कि में तो निहाल हो गयी, में माँ बनने वाली हूँ, आपका यह उपकार सदा मेरे ऊपर रहेगा। तो मैंने कहा कि इसके मैंने आपसे पैसे लिए थे। तो चाँद बोली कि पैसा तो मेरा पति भी कमाता है, लेकिन जो सुख आपने मुझे दिया है वो अब मुझे जीवनभर याद रहेगा ।।

धन्यवाद …

Best Hindi sex stories © 2017
error: