Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

मेरी गर्लफ्रेंड को मैंने और मेरे दोस्त ने जमकर चोदा

group sex stories in hindi

मेरा नाम रवि है मैं जयपुर का रहने वाला हूं, मेरे घर में मेरे माता-पिता और मेरी छोटी बहन है। मेरी उम्र 28 वर्ष है और मैं एक कंपनी में नौकरी करता हूं, मुझे इस कंपनी में काम करते हुए काफी समय हो चुका है और मैंने अपना कॉलेज पूरा करने के बाद से ही जॉब करनी शुरू कर दी,  मैं तब से इसी कंपनी में काम कर रहा हूं। मेरे साथ में मेरा बचपन का दोस्त संकेत भी काम करता है, हम दोनों ने स्कूल में भी साथ में पढ़ाई की थी और उसके बाद कॉलेज से लेकर हम दोनों साथ में ही काम कर रहे हैं। वह मेरे ऑफिस में काम करता है, हम दोनों के बीच में बहुत ज्यादा गहरी दोस्ती है। संकेत अपने घर में इकलौता है और वह मुझे अपने भाई की तरह मानता है, उसके और मेरे बीच में बहुत ज्यादा अच्छे रिश्ते हैं। उसके माता पिता मुझे बहुत ही अच्छा मानते हैं और मैं उनके घर अक्सर आता जाता रहता हूं। संकेत का नेचर भी बहुत अच्छा है और वह मेरी हमेशा ही मदद करता है।

हम दोनों ऑफिस में भी साथ में ही रहते हैं और जब कभी पार्टी होती है तो उस वक्त भी संकेत और मैं साथ में ही रहते हैं। एक बार हमारे ऑफिस से हमारा टूर कहीं बाहर जाने वाला था, उसके लिए सब लोग तैयारी कर रहे थे कि कहां घूमने जाया जाए परंतु कुछ भी फाइनल नहीं हो पा रहा था क्योंकि सब लोग अपनी अलग अलग बात रख रहे थे और आखरी में हम लोग ऊटी चले गए। जब हम लोग वहां पहुंचे तो वहां का नजारा बहुत सुंदर था, सब लोग बहुत खुश हो रहे थे और सब कह रहे थे कि बहुत ही अच्छा मौसम है क्योंकि ऊटी का मौसम बहुत ही शानदार था। हमारे साथ के जितने भी दोस्त है वह सब लोग बहुत खुश थे और कह रहे थे कि बहुत ही अच्छा किया कि हम लोग ऊटी घूमने आ गए। हम लोगों ने उस दिन रात को जमकर पार्टी की और सब लोग बहुत एंजॉय कर रहे थे। हम लोग जमकर डांस भी कर रहे थे लेकिन नशे की हालत में संकेत ने मेरी गर्लफ्रेंड को कुछ गलत बात कह दी, मुझे उस दिन वह बात बहुत बुरी लगी और बात इतनी बढ़ गई कि मैं पार्टी छोड़ कर अपने कमरे में चला गया फिर मैंने किसी से भी बात नहीं की, जब सब लोगों का नशा उतर गया तो उसके बाद संकेत मेरे पास नहीं आया क्योंकि वह शर्मिंदा था। मैंने भी उस दिन उससे बिल्कुल बात नहीं की और हम लोग जब ऊटी से वापस लौटे तो उसके बाद मैंने संकेत से बात करना ही बंद कर दिया था और ना ही वह मुझसे बात कर रहा था।

मुझे यह बात अच्छे से मालूम थी कि संकेत बहुत ही अच्छा लड़का है, अंदर ही अंदर से वह बात करने के लिए सोच रहा होगा परंतु उसकी हिम्मत नहीं हो रही थी कि वह मुझसे बात करें, मेरी गर्लफ्रेंड का नाम मोनिका है उसकी और मेरी मुलाकात संकेत ने ही करवाई थी। जब हम दोनों को संकेत ने मिलवाया तो उस वक्त हम दोनों के बीच में इतनी बातें नहीं होती थी और फिर हम दोनों का रिलेशन धीरे-धीरे बढ़ने लगा। मैंने संकेत को काफी समय तक मोनिका और मेरे रिश्ते के बारे में नहीं बताया लेकिन जब मैंने उसे अपने रिश्ते के बारे में बताया तो वह बहुत ही खुश हुआ और मुझसे कह रहा था कि मोनिका बहुत ही अच्छी लड़की है क्योंकि मोनिका उसकी कॉलोनी में रहती है इसी वजह से वह उसे बहुत अच्छे से जानता है। मोनिका अभी कॉलेज कर रही है और हम लोगों की मुलाकात बहुत कम हो पाती है लेकिन वह मुझे जब भी मिलती है तो हम दोनों साथ में अच्छा समय बिताते हैं। मुझे भी मोनिका के साथ में समय बिताना अच्छा लगता है और वह भी मेरे साथ अपना समय व्यतीत करना पसंद करती है। जब इस बारे में मोनिका को पता चला तो वह मेरे पास आई और मुझे कहने लगी कि क्या तुम संकेत से बात नहीं कर रहे हो, मैंने उसे इस बारे में कुछ भी नहीं बताया, जब वह मुझसे पूछने लगी कि तुम संकेत से क्यों बात नहीं कर रहे, तो मैंने उसे कुछ नहीं बताया और कहा कि हम दोनों के बीच की बात है तुम इस बारे में ना ही बोलो तो ज्यादा उचित रहेगा। यह बात मोनिका को भी बहुत बुरी लगी और वह मुझसे कहने लगी कि तुम यदि मुझसे इस प्रकार से बात करोगे तो तुम मुझसे भी बिल्कुल बात मत करना। उस दिन वह भी मुझसे बहुत गुस्सा हो गई और अपने घर चली गई। मेरी भी मोनिका से कई दिनों तक बात नहीं हुई और मैं कई दिनों तक संकेत के घर भी नहीं गया।

एक दिन उसकी मम्मी का मुझे फोन आया और कहने लगी कि तुम आजकल घर नहीं आ रहे हो, मैंने उन्हें कहा कि आजकल मैं बहुत बिजी हूं इस वजह से घर नहीं आ पा रहा लेकिन उन्हें मेरे और संकेत के झगड़े के बारे में पता था इसी वजह से उन्होंने मुझे फोन किया था और हम दोनों के बीच बिल्कुल भी बात नहीं हो रही थी। वह मुझे ऑफिस में भी मिलता तो मैं उससे बात नहीं करता था। मुझे लगने लगा कि यदि संकेत मुझसे बात करेगा तो ही मैं उससे बात करूंगा क्योंकि मेरी इसमें बिल्कुल भी गलती नहीं थी, संकेत ने ही नशे की हालत में गलत बात कही थी इसी वजह से मुझे बहुत गुस्सा आया था लेकिन संकेत ने भी मुझसे बात नहीं की और एक दिन मैं आपने घर पर ही था तो उस दिन उसकी मम्मी हमारे घर पर आए हुए थे। उसकी मम्मी का भी हमारे घर पर आना जाना लगा रहता था। उस दिन वह मुझसे पूछने लगे कि तुम्हारा काम कैसा चल रहा है, मैंने उन्हें कहा कि अच्छा चल रहा है। वह मुझसे कहने लगी कि आजकल संकेत मुझसे बिल्कुल भी बात नहीं करता है और जब घर में होता है तो चुपचाप बैठा रहता है। मैं चुपचाप था और मैंने कुछ भी नहीं कहा, उसके बाद मैं अपने कमरे में चला गया। उस दिन मुझे मोनिका ने फोन किया और जब मोनिका ने मुझे फोन किया तो वह मुझसे कहने लगी कि मैं तुम पर बेवजह ही उस दिन गुस्सा हो गई, मुझे तुम्हारी भावनाओं को समझना चाहिए था। मैंने उससे कहा कोई बात नहीं ऐसा कभी-कभी हो जाता है।

जब मैंने उससे यह बात कही तो वह मुझे कहने लगी कि तुम मुझे मिल जाना मैं तुमसे मिलना चाहती हूं। जब उसने यह बात मुझे कहीं तो मैं मोनिका से मिलने के लिए तैयार हो गया और मैं शाम को मोनिका से मिलने के लिए चला गया। उस दिन जब मैं मोनिका से मिला तो वह मुझसे पूछने लगी की तुम मुझे बताओ कि तुम्हारे और संकेत के बीच में उस दिन क्या बात हुई। मैंने उसे कहा कि तुम मुझे इस बारे में ना ही पूछो तो ज्यादा अच्छा रहेगा लेकिन वह मुझसे इस बारे में बार बार पूछने लगी तो मैंने उसे बता दिया कि हम लोगों का ऑफिस का टूर ऊटी गया था और उस दिन संकेत ने तुम्हारे बारे में कुछ गलत बात कह दी लेकिन वह नशे में था, उसने वह बात दिल से नहीं कहीं यह बात मुझे भी अच्छे से मालूम है और मैं तुम्हारे बारे में बिल्कुल भी गलत बात नहीं सुन पाया इसी वजह से हम दोनों आपस में बात नहीं कर रहे हैं। मोनिका कहने लगी उस दिन हो सकता है उसने गलत बात कह दी हो लेकिन तुम्हें उससे बात करनी चाहिए और तुम्हे उसे समझाना चाहिए था। मैंने मोनिका को कहा मैंने सोचा कि संकेत ही मुझसे आकर बात करें तो ज्यादा अच्छा रहेगा लेकिन वह भी अपनी बात से शर्मिंदा है इसलिए उसने मुझे फोन नहीं किया और ना ही वह मुझसे बात कर रहा है, मुझे वह ऑफिस में भी मिलता है तो मुझसे बिल्कुल भी बात नहीं करता। उस दिन मोनिका ने संकेत को फोन कर दिया और संकेत भी बुला लिया। जब संकेत आया तो वह मुझसे बात नहीं कर रहा था लेकिन मोनिका ने हम दोनों के बीच के झगड़े को खत्म कर दिया।  संकेत मुझे कहने लगा कि आज तुम हमारे घर पर चलो हम लोग वहां पर पार्टी करेंगे। हम लोग संकेत के घर पर गए तो हम लोगों उसके कमरे में बैठकर शराब पी रहे थे और मोनिका ने भी उस दिन दो तीन पैक मार लिए। हम तीनो ही पूरे मजे में थे और मेरा मोनिका को देखकर मूड खराब होने लगा। मैंने जब उसके होठों को किस कर लिया तो संकेत पास में ही बैठकर सब देख रहा था और मैंने उसे वही बिस्तर पर लेटा दिया।

मैंने जब उसे बिस्तर पर लेटाया तो उसके अंदर की गर्मी बाहर आने लगी। मैंने उसके स्तनों को बहुत देर तक चूसा जिससे कि उसे बहुत मजा आने लगा। मैंने उसकी योनि को चाटना शुरू कर दिया जैसे ही मैंने अपने लंड को मोनिका की योनि में डाला था वह चिल्लाने लगी और वह मचलने लगी। उसने अपने दोनों पैरों को खोल लिया और मैं उसे बड़ी तेज गति से झटके दिए जा रहा था मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था जब मैं उसे चोद रहा था। संकेत भी खड़ा उठा और उसने अपने लंड को मोनिका के मुंह में डाल दिया। मोनिका ने उसके लंड को अपने मुंह के अंदर तक ले लिया और बहुत अच्छे से चूसने लगी। मैं भी उसे बड़ी तेजी से धक्के मार रहा था लेकिन उसकी चूत बहुत ज्यादा टाइट थी इसलिए मैं ज्यादा देर तक झेल नहीं पाया और मेरा माल मोनिका की योनि में गिर गया उसने अपनी चूत को साफ किया। संकेत ने उसे घोड़ी बना दिया और बहुत तेजी से चोदने लगा उसका लंड जैसे ही मोनिका की चूत मे जाता तो वह चिल्लाने लगती लेकिन थोड़ी देर बाद वह अपनी चूतडो को संकेत से मिला रही थी और उसे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। मैं यह देखे जा रहा था और मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने भी मोनिका के मुंह में अपने लंड को डाल दिया और वह उसे अच्छे से चूसने लगी। संकेत भी उसे बड़ी तीव्र गति से चोदे जा रहा था जैसे कि उसका माल मोनिका की योनि में गिरा तो वह बैठ गया। वह अब भी मेरे लंड को मुंह में लेकर चूस रही थी और उसने अपने गले के अंदर तक मेरे लंड को लिया हुआ था जैसे ही मेरा वीर्य उसके मुंह में गया तो उसने वह सारा अपने अंदर ही ले लिया। उसके बाद हम तीनों ने जमकर शराब पी और उस दिन हम लोग संकेत के घर पर ही सो गए।

Best Hindi sex stories © 2017
error: