Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

मेरी भाभी भावना-1

bhabhi sex stories हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम मनु है। में दिल्ली का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 29 साल है, मैंने मैकेनिकल इंजिनियरिंग की डिग्री ली हुई है और एक बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करता हूँ, फेयर कलर, गुड लुकिंग। अब में आपका समय ज्यादा ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। यह स्टोरी मेरे और मेरी एक भाभी के बीच की है, उनका नाम भावना है, उनकी उम्र 32 साल है, फेयर कलर, हाईट 5 फुट 3 इंच, उनका फिगर साईज 34-25-36 है, अगर एक तरफ उनकी चूचीयाँ कयामत थी, तो दूसरी तरफ उनकी गांड किसी को भी ललचाने पर मजबूर कर सकती थी। फिर भला में क्या चीज था? जो उनके जादू से बच पाता। अब में बस किसी मौके की तलाश में था, बस फिर जैसे ही मुझे मौक़ा मिला तो मैंने ना सिर्फ़ भाभी को चोद दिया, बल्कि चुदाई का एक ना ख़त्म होने वाला सिलसिला शुरू कर दिया। अब में भाभी को कई बार कपड़े बदलते हुए या नहाते हुए देख चुका था, मगर भाभी की तरफ पहल करते हुए मेरी जान जाती थी, मगर फिर भाभी को रिझाने के लिए एक तरकीब मेरी समझ में आई।

भैया अक्सर घर पर नहीं होते थे, वो एक मल्टीनेशनल कंपनी में है और अक्सर टूर पर बाहर जाते रहते है। अब जब भैया घर नहीं होते थे तो में अक्सर अपने कमरे में सेक्सी सी.डी के कवर्स या सेक्सी मैग्जीन टेबल पर रख देता था। फिर जब भाभी मुझे जगाने के लिए आती तो उन्हें वो मैग्जीन नजर आती थी। फिर एक दिन जब मेरी आँख खुली तो मैंने भाभी को एक सेक्सी मैग्जीन देखते हुए देखा। फिर भाभी ने मुझे देखा तो वो बोली कि कुछ नहीं और मुस्कुराती हुई चली गयी। फिर उसके बाद भाभी मुझसे करीब से करीब होती गयी। अब वो जब भी मेरे रूम में आती तो अक्सर उनका दुप्पटा उनके सीने पर नहीं होता था। कभी कभी उनकी कमीज का गला काफ़ी खुला होता था और वो मेरे सामने काफ़ी झुक जाती थी, जिससे मुझे उनके बूब्स साफ-साफ दिखाई देते थे। वो कभी-कभी कोशिश करती थी कि मेरे ज़्यादा करीब बैठे और अपना जिस्म मेरी बॉडी से टच करने की कोशिश करती थी। कभी-कभी पीछे से मेरे इतनी क़रीब आ जाती थी कि उनके बूब्स मेरी पीठ पर लगते थे। में भाभी की भावना को समझता था, लेकिन में अभी कोई स्टेप लेना नहीं चाहता था, में चाहता था कि भाभी खुद कोई कदम उठाए। आख़िरकार फिर वो दिन आ ही गया, भैया अपने टूर पर गये थे। अब में सुबह उठकर नहाने की तैयारी कर रहा था। अब मैंने अपने कपड़े उतारकर एक टावल लपेट रखा था, जिससे मेरा लंड बाहर निकल रहा था। तभी भाभी किसी काम से मेरे रूम में आई तो पहले मेरे लंड ने उन्हें सलामी दी, तो मैंने घबराकर अपने लंड को टावल में छुपाने की कोशिश की।

तब ही भाभी ने किसी बहाने से अपने हाथ में पकड़े हुए कपड़े गिरा दिए और उन्हें उठाने के लिए झुकी तो वो ना सिर्फ़ अपनी गांड मेरे लंड से रगड़ती हुई ले गयी, बल्कि अपनी गांड से मेरे लंड को थोड़ा सा प्रेस भी कर दिया। अब मेरे तो तन बदन में एक करंट सा दौड़ गया था। फिर मैंने मौक़ा मुनासिब समझते हुए भाभी को पीछे से पकड़ लिया और उन्हें किस करने लगा था। फिर मैंने बोला कि हम तो कब से इसी इंतज़ार में थे कि कब मौक़ा मिले और भाभी की चुदाई करे? तो पहले तो भाभी ने कुछ नहीं कहा और फिर अपने आपको छुड़ाते हुए कहा कि क्यों इतने बेताब हो रहे हो? थोड़ा इंतज़ार करो, में अभी आती हूँ। फिर जो जी चाहे कर लेना और सेक्सी स्माइल देती रूम से चली गयी। मगर अब मुझसे कहाँ इंतज़ार होता? तो में भाभी के पीछे पीछे उनके रूम में आ गया और उनको पीछे से पकड़ लिया। तब भाभी मुस्कुराते हुए बोली कि अब तो बड़ा जोश दिखा रहे हो। इससे पहले तो बुद्धू बने हुए थे, आख़िर मुझे ही कुछ करना पड़ा।

अब में भाभी के बूब्स को उनकी कमीज के ऊपर से ही सहला रहा था। फिर जब मैंने उनकी कमीज उतारनी चाही तो उन्होंने मुझे रोक दिया और कहा कि थोड़ा सब्र करो अपने रूम में जाओ और नहा धोकर फ्रेश हो जाओ, में भी 1 घंटे में आती हूँ। फिर में लाचर अपने रूम में आ गया और सोचने लगा कि क्या आज वाकई में वो खुशक़िस्मत दिन है? जिसका में इंतज़ार कर रहा था। फिर 1 घंटे के बाद भाभी मेरे रूम में आई तो में उन्हें देखकर हैरान रह गया, उन्होंने कॉटन का वाईट सूट पहना हुआ था और हल्का-हल्का मेकअप किया हुआ था। अब मदहोश कर देने वाले पर्फ्यूम से उनका जिस्म महक रहा था, भाभी बड़ी सेक्सी लग रही थी। फिर वो मेरे करीब आई और मेरे गले में अपनी बाहें डालकर मुझे अपनी तरफ खींचा। अब में उनके बूब्स अपनी छाती पर महसूस कर रहा था।

फिर उन्होंने मेरे लिप्स पर किस किया तो मेरे पूरे जिस्म में एक करंट सा दौड़ गया। फिर मैंने अपना एक हाथ उनकी गांड पर फैरना शुरू किया और करीब 10 मिनट तक हमारी किसिंग जारी रही। अब मेरा लंड अब मेरे बस में नहीं था। फिर मैंने भाभी की कमीज उतारनी चाही। तब उन्होंने कहा कि इतनी क्या जल्दी है? थोड़ा सब्र करो, फिर तुम वो सब कुछ देख सकोगे जिसकी चाहत में तुम कितनी ही बार मास्टरबेट कर चुके हो? में सब जानती हूँ कि तुम मुझे देख-देखकर मास्टरबेट करते रहे हो। फिर उन्होंने अपनी कमीज बड़े ही सेक्सी और स्टाइलिश तरीके में उतारी, उनके रस भरे बूब्स काली ब्रा में क़ैद थे। अब में यह देखकर हैरान रह गया कि उनकी सलवार में नाड़े की जगह इलास्टिक थी। फिर उन्होंने अपनी सलवार पीछे से थोड़ी सी सरकाई और बेड पर लेट गयी और अपनी दोनों टाँगें उठाकर सेक्सी तरीके में अपनी सलवार भी उतार दी और फिर उठकर थिरकते हुए अपनी ब्रा भी उतार दी। अब भाभी मेरे सामने बड़े सेक्सी पोज में बिल्कुल नंगी खड़ी थी। अब वो हमेशा से ज़्यादा सेक्सी और खूबसूरत लग रही थी, हालाँकि मैंने कई बार उन्हें नंगा देखा था।

Best Hindi sex stories © 2020