Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

मामी की निगाहों में नशा-2

desi porn kahani फिर तब वो अपना सिर झुकाकर बोली कि आज तक तुम्हारे जैसा कोई मिला ही नहीं। तब में बोला कि अगर मिल जाता तो। तब वो बोली कि तो में अपनी चूत को उसके लंड पर कुर्बान कर देती। तब में बोला कि आओ, मेरा लंड तुम्हारी चूत पर न्योछावर होने के लिए बेकरार है और तुरंत उसे अपनी बाँहों में ले लिया और उसके होंठो में अपने होंठ डालकर चुंबन करने लगा। तब मैंने महसूस किया कि उसके हाथ मेरे लंड की तरफ बढ़ रहे थे और फिर उसने मेरी पैंट की चैन खोलकर मेरे लंड को पकड़ लिया और फिर धीरे-धीरे उसे सहलाने लगी थी। अब मेरा लंड लोहे की तरह सख्त हो गया था। फिर मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो में पैंट और अंडरवेयर निकालकर बिल्कुल नंगा हो गया। फिर उसने मेरे लंड को पकड़कर अपने मुँह में ले लिया और लॉलीपोप की तरह चूसने लगी थी। अब मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। अब वो कभी मेरे लंड के सुपाड़े को चूसती तो कभी अपनी जीभ से मेरे लंड को जड़ तक चाट रही थी और फिर उसने ऐसा करीब 15 मिनट तक किया। फिर आख़िर में मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उसके मुँह में अपना बहुत सारा वीर्य डाल दिया। फिर हम दोनों सोफे पर आकर बैठ गये। अब मेरा लंड फिर से सामान्य हो गया था, वो अब भी साड़ी पहने हुई थी।

फिर मैंने उसकी साड़ी में अपना एक हाथ डालकर उसकी जाँघो को सहलाया और फिर अपने एक हाथ को उसकी चूत पर ले गया, उसकी पेंटी गीली हुई थी, उसकी पेंटी इतनी गीली थी जैसे पानी से भीग गयी हो। फिर मैंने उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को मसलना शुरू किया। अब वो बिन पानी की मछली की तरह तड़पने लगी थी। फिर मैंने उसकी पेंटी में अपना एक हाथ डाला तो उसकी चूत फूली हुई थी और गर्म बत्ती की तरह सुलग रही थी। फिर में उसकी चूत की दरार में अपनी एक उंगली डालकर उसकी चूत के दाने को मसलने लगा, जिस कारण वो गर्म होने लगी थी। फिर मैंने उसे सोफे पर लेटाकर उसकी साड़ी और पेटीकोट को ऊपर सरकाया। अब उसकी पेंटी उसकी चूत के अमृत से तरबतर थी। फिर मैंने उसकी पेंटी को पकड़ा और उसकी जांघो तक सरका दी। फिर उसने खुद उठकर अपनी पेंटी निकाल दी और फिर सोफे पर लेट गयी थी। अब उसके घुटने ऊपर थे और टाँगे फैली हुई थी। अब मुझे उसकी साँवली चूत बिल्कुल साफ-साफ दिखाई दे रही थी।

फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाली तो मुझे ऐसा लगा जैसे मैंने आग को छू लिया हो, क्योंकि उसकी चूत काफ़ी गर्म हो चुकी थी। फिर में धीरे-धीरे अपनी एक उंगली उसकी चूत में अंदर बाहर करने लगा। अब उसके मुँह से आअहह, उूउउफफफ्फ की आवाजें निकल रही थी। फिर मैंने अपनी दो उंगलियाँ उसकी कोमल चूत में घुसा दी। अब उसकी चूत चिकनी होने से मेरी दोनों उंगलियाँ आराम से अंदर बाहर हो रही थी। फिर मैंने लगभग 10-15 बार अपनी उंगलियों से उसकी चूत घिसाई की। अब इधर मेरा लंड भी फूलकर तन गया था। फिर में उठकर खड़ा हुआ और उसे लेकर बेडरूम में ले गया। अब वो अपनी आँखें बंद किए मेरे अगले कदम का इंतज़ार करने लगी थी।

फिर मैंने अपनी शर्ट निकालकर उसकी साड़ी और पेटीकोट दोनों उतार दिए और अब हम बिल्कुल नंगे हो गये थे। फिर वो करवट लेकर लेट गयी। अब उसके चूतड़ साफ साफ झलक रहे थे। फिर मैंने उसकी गांड को अपने एक हाथ से सहलाया, क्या गांड थी उसकी? गोल मटोल गांड थी उसकी। फिर में करीब 5 मिनट तक उसकी गांड को सहलाता रहा और फिर उसकी कमर पकड़कर उसको सीधा लेटा दिया और जितना हो सका उतनी उसकी दोनों टाँगे फैला दी और फिर उसकी चूत की दरारों को फैलाकर अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटने लगा था। अब उसके मुँह से आह, उूउउफफफ्फ की नशीली आवाजें निकल रही थी। अब में अपनी जीभ से उसकी चूत के एक-एक भाग को चाट रहा था और बीच-बीच में उसकी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था। अब वो बिल्कुल पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी। फिर वो बोली कि अब हटो अरमान, मेरी चूत काफ़ी गर्म हो चुकी है, अब अपना लंड मेरी गर्मा गर्म चूत में घुसेड़ दो राजा, उउफ़फ्फ अपने लंड से मेरी चूत की गर्मी और प्यास बुझा दो, मेरे अरमान आज इतना कस कसकर चोदो कि मेरे पूरे अरमान निकल जाए।

फिर जैसे ही मैंने उसकी चूत से अपना मुँह हटाया तो उसने अपनी दोनों टाँगे मोड़ ली। फिर में उसकी उठी हुई दोनों टांगो के बीच में बैठ गया। फिर मैंने उसकी दोनों टांगे अपने हाथ से उठाकर अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा, जिस कारण उसके शरीर में झुरझरी मच गयी थी। अब मेरे लंड को उसकी चूत के मुँह पर रखते ही उसकी चूत की चिकनाहट के कारण अपने आप अंदर जाने लगा था। फिर मैंने कसकर एक धक्का मारा तो मेरा लंड पूरा का पूरा उसकी चूत में घुस गया। अब उसकी गर्म-गर्म चूत के अंदर मेरे लंड की अजीब हालत थी। अब में धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में अंदर बाहर करने लगा था। उसकी चूत के घर्षण से मेरा लंड फूलकर और मोटा हो गया था। अब मेरे हर धक्के पर वो आआहह, ऊऊहह की आवाज़े निकालने लगी थी। फिर में करीब 20 मिनट तक उसकी चूत में अपना लंड अंदर बाहर करता रहा। फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और दनादन अपने लंड को उसकी चूत में मूसल की तरह घुसाता रहा। अब उसने मुझे कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया था।

अब में समझ गया था कि वो झड़ रही है और कहरा रही थी और बोल रही थी हाए अरमान 2 साल के बाद मेरी चूत की खुजली मिटी है, वाकई में तुम पक्के चुदक्कड़ हो, चोदो मुझे, ज़ोर-ज़ोर से चोद। अब मेरा लंच पच-पच की आवाज के साथ अंदर बाहर हो रहा था। अब पूरे कमरे में चुदाई की फच-फच, फच- फच की आवाज़े गूँज रही थी। अब मेरा लंड उसकी चूत को चोदता जा रहा था। अब कुछ देर के बाद उसके झड़ने के कारण मेरा लंड बिल्कुल गीला हो चुका था और अब वो निढ़ाल होकर लंबी-लंबी साँसे ले रही थी। फिर करीब 20-25 धक्को के बाद मेरे लंड ने आख़िर में जोरदार फव्वारा निकला और उसकी चूत में समा गया। फिर जब तक मेरे लंड से एक-एक बूँद उसकी चूत में समाती रही और में धक्को पर धक्के लगाता रहा। फिर आख़िर में मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके बाजू में लेट गया।

अब हम दोनों की साँसे तेज चल रही थी। अब वो दाहिनी तरफ करवट लेकर लेटी हुई थी। फिर करीब 15-20 मिनट तक हम ऐसे ही लेट रहे। फिर मेरी नजर उसकी गांड पर पड़ी। अब उसकी गांड का ख्याल आते ही मेरा लंड फिर से हरकत करने लगा था। फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड के छेद पर रखकर घुसाने की कोशिश की, उसकी गांड का छेद बहुत टाईट था। फिर मैंने बहुत सारा थूक उसकी गांड के छेद पर और अपनी उंगली पर लगाया और दुबारा से उसकी गांड में अपनी एक उंगली घुसाने की कोशिश करने लगा। अब गीलेपन के कारण मेरी उंगली थोड़ी सी उसकी गांड में घुस गयी थी। अब मेरी उंगली घुसते ही वो कसकसाहट करने लगी थी। फिर वो तड़पकर आगे खिसकी जिस वजह से मेरी उंगली उसकी गांड के छेद से बाहर निकल गयी थी और मुड़कर बोली कि क्या कर रहे हो? तो तब मैंने कहा कि तुम्हारी गांड सचमुच बहुत खूबसूरत है। तब वो बोली कि उंगली क्यों घुसा रहे हो? लंड सो गया है क्या? तो उसकी यह बातें सुनकर में बहुत खुश हुआ और उसे पेट के बल लेटा दिया और अपने दोनों हाथों से उसके चूतडों को फैला दिया, जिससे उसकी गांड का छेद और खुल गया था।

फिर वो धीरे से बोली कि अरमान नारियल तेल या कोई चिकनी चीज मेरी गांड और अपने लंड पर लगा लो तो आसानी रहेगी। तब मैंने कहा कि मेडम मेरे पास इससे भी अच्छी चीज है, वैसलीन और फिर में उठकर ड्रॉयर से वैसलीन ले आया और बहुत सारी वैसलीने अपने लंड पर और उसकी गांड पर लगाई और फिर उसकी गांड मारने को तैयार हो गया। फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड के सुराख पर लगाया और थोड़ा ज़ोर लगाकर पुश किया तो मेरे लंड का सुपाड़ा उसकी गांड में थोड़ा सा घुस गया और फिर थोड़ा ज़ोर लगाकर और पुश किया तो मेरा सुपाड़ा उसकी गांड में समा गया। मेरा सुपाड़ा उसकी गांड मे घुसते ही वो बोली कि अरमान थोड़ा आहिस्ते-आहिस्ते डालो, बहुत दर्द हो रहा है, 2 साल हो गये गांड मरवाए। अब में सिर्फ़ अपने सुपाड़े को ही धीरे-धीरे उसकी गांड में अंदर बाहर करने लगा था।

फिर थोड़ी देर के बाद ही उसकी गांड का छेद मेरा पूरा लंड खाने के काबिल हो गया। तब मुझे लगा कि अब मेरा लंड पूरा उसकी गांड में घुस जाएगा और ऐसा ही हुआ। अब उसकी गांड का छेद चिकनाहट की वजह से मेरा लंड थोड़ा-थोड़ा और अंदर समाने लगा था और फिर 2-3 मिनट की मेहनत के बाद मेरा लंड पूरा का पूरा उसकी गांड में घुस गया। अब में धीरे-धीरे अपना लंड उसकी गांड में अंदर बाहर करने लगा था। अब उसकी गांड टाईट होने की वजह से मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। अब उसे भी अपनी गांड मरवाने में बहुत मज़ा आ रहा था और वो अपने मुँह से उउफ्फ, आह की आवाज़े निकाल रही थी। फिर 30-35 धक्को के बाद मेरे लंड ने अपने घुटने टेक दिए और उसकी गांड में बहुत सारा वीर्य छोड़ दिया। अब वो भी अपनी गांड को सिकोड़ने लगी थी। अब हम दोनों निढ़ाल होकर बिस्तर पर लेट गये थे। फिर जब तक मेरा दोस्त नहीं आया। मैंने उसकी मामी की कई बार चूत और गांड मारी।

फिर जब में वापस अपने घर आने लगा, तो तब मामी बोली कि कैसी रही मेरी समाज सेवा? तो तब मैंने हंसकर कहा कि मामी जी आप सच्चे तन मन से समाज सेवा करती हो और फिर में अपने घर आ गया। फिर मुझे जब कभी भी कोई मौका मिला तो मैंने उसकी खूब चुदाई की और खूब मजे लिए और बहुत इन्जॉय किया ।।

धन्यवाद …

Best Hindi sex stories © 2017
error: