Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

लंड और अंदर डालो

Antarvasna, hindi sex story: शादी की दसवीं सालगिरह में सब कुछ बदल चुका था, माधुरी मेरा घर पर इंतजार कर रही थी मैं जब घर पर पहुंचा तो माधुरी ने सारी व्यवस्था की हुई थी माधुरी ने हमारे रिश्तेदारों और मेरे दोस्तों को इनवाइट किया था। मैं जब घर पहुंचा तो मैं इस बात से खुश था कि माधुरी ने मेरे लिए यह सब कुछ अरेंजमेंट किया है सब लोगों ने हम दोनों की शादी के 10 वर्ष पूरे हो जाने की खुशी में बधाई दी लेकिन मेरे लिए शायद यह सब कुछ ठीक नहीं था क्योंकि शादी के 10 वर्ष हो जाने के बाद माधुरी और मेरे बीच में बहुत सी बातों को लेकर मतभेद होते रहते थे। मैं उस दिन नहीं चाहता था कि माधुरी और मेरे बीच में किसी बात को लेकर कोई झगड़ा हो इसलिए उस दिन हम लोगों ने साथ में अच्छा समय बिताया। अपनी शादी के 10 वर्ष बाद हम लोगों ने साथ में इतना अच्छा समय बिताया था मैं बहुत खुश था कि माधुरी और मैं अच्छे से समय बिता पाए।

हमारे सब दोस्त और रिश्तेदार भी खुश थे सब लोग अपने घर जा चुके थे तो रात के वक्त माधुरी और मैं साथ में बैठे हुए थे मम्मी पापा भी सो चुके थे और बच्चे भी रूम में सो रहे थे मैंने माधुरी को कहा माधुरी हमारी शादी को आज 10 वर्ष हो चुके हैं और हमें पता ही नहीं चला कि कब हमारी शादी को 10 वर्ष हो गए। माधुरी कहने लगी इस बीच हम लोगों ने कितनी समस्याएं देखी है लेकिन उसके बावजूद भी तुमने कभी हार नहीं मानी। मैंने माधुरी को कहा उसमें तुमने भी तो मेरा साथ दिया था लेकिन कुछ समय से हम लोगों के रिश्ते कुछ ठीक नहीं चल रहे थे और आज मुझे बहुत खुशी हुई जिस प्रकार से तुमने आज सारा अरेंजमेंट खुद किया हुआ था। माधुरी मुझे कहने लगी कि आकाश मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं। मैंने माधुरी को कहा माधुरी प्यार तो मैं भी तुमसे करता हूं लेकिन हम दोनों के बीच के झगड़ों की वजह से शायद मैं बहुत ज्यादा परेशान हो गया था लेकिन मुझे लगता है कि हम लोग अब अपने जीवन को दोबारा सही कर सकते हैं जैसे कि हम लोग पहले साथ में रहते थे माधुरी ने मुझे कहा हां तुम बिल्कुल ठीक कह रहे हो। कई बार माधुरी और मेरे इतने झगड़े हो जाते थे कि माधुरी अपने मायके चली जाया करती थी। मैं इस बात से वाकई में बहुत ज्यादा परेशान हो चुका था कि हम लोग क्या कभी अच्छे से एक दूसरे के साथ रह पाएंगे भी या नहीं। अब हम दोनों ने फैसला किया कि हम दोनों एक दूसरे का साथ अच्छे से देंगे और एक दूसरे को किसी भी चीज को लेकर हम कमी नहीं होने देंगे।

मैं माधुरी को खुश रखने की हमेशा से कोशिश करता आया हूं और मैं चाहता था कि मैं माधुरी को खुश रखूं मेरे और माधुरी के बीच के रिश्ते अब काफी बदल चुके थे मैं माधुरी को अब पहले की तरह समय दिया करता था। एक दिन मैं अपने ऑफिस से घर लौटा तो माधुरी ने मुझे कहा कि आकाश क्या कल आप अपने ऑफिस से छुट्टी ले सकते हैं, मैंने माधुरी को कहा लेकिन हमें क्या कोई जरूरी काम है। वह कहने लगी कि हां मेरी सहेली के पति का ट्रांसफर दिल्ली में हो चुका है और मैं सोच रही हूं कि उससे मिलने के लिए हम लोग उसके घर पर जाएं। मैंने माधुरी को कहा ठीक है मैं कोशिश करता हूं कि मुझे ऑफिस से छुट्टी मिल जाए, माधुरी ने मुझे कहा चलिए यदि आपको छुट्टी मिल जाएगी तो कल हम लोग मेरी सहेली के घर जाएंगे। सुबह ही मैंने अपने बॉस को फोन कर दिया और अपनी तबीयत खराब होने की बात कही तो उन्होंने मुझे कहा कि तुम आज छुट्टी ले लो और मैं उस दिन घर पर ही था हम लोग माधुरी की सहेली के घर जाने के लिए तैयार हो रहे थे। मैंने माधुरी को कहा तुम जल्दी से तैयार हो जाओ वह कहने लगी कि बस आकाश मैं थोड़ी देर बाद तैयार हो जाती हूं मैं माधुरी का इंतजार कर रहा था और अब माधुरी तैयार हो चुकी थी मैंने माधुरी को कहा हम लोग उनके लिए कुछ ले लेते हैं माधुरी कहने लगी ठीक है। हम लोग जैसे ही अपने घर से बाहर निकले तो हमारे घर के थोड़ी दूर पर ही एक गिफ्ट सेंटर है मैंने वहां से उन लोगों के लिए गिफ्ट ले लिया और अब हम लोग माधुरी की सहेली के घर पहुंचने वाले थे। जैसे ही हम लोग उनके घर पहुंचे तो हमने दरवाजे की घंटी बजाई जब दरवाजा खोला तो माधुरी की सहेली दरवाजे पर खड़ी थी उसने मुझे देखते हुए माधुरी से कहा आज पहली बार मैं जीजाजी से मिल रही हूं। मैंने माधुरी से कहा तुम अपनी सहेली का परिचय तो मुझसे करवाओ माधुरी ने अपनी सहेली का परिचय मुझसे करवाया उसका नाम कावेरी है।

कावेरी से मैं पहली बार मिला कावेरी के पति उस दिन घर पर ही थे और उसके पति के साथ बात करके मुझे अच्छा लगा। हम लोग उनके घर पर काफी समय तक रुके और उसके बाद हम लोग अपने घर लौट आए मुझे काफी अच्छा लगा काफी समय बाद माधुरी और मैं कहीं साथ में बाहर गए थे। जब हम लोग वापस लौटे तो मैं सोचने लगा कि माधुरी के साथ मेरे रिश्ते पहले की तरह ही हो चुके थे हम लोगों के बीच पहले की तरह ही प्यार हो चुका था माधुरी और मेरे बीच किसी भी बात को लेकर झगड़े नहीं होते और ना ही माधुरी कभी मुझसे झगड़े करती। सब कुछ अच्छे से चल रहा था और मेरा अब प्रमोशन भी हो गया था मेरा प्रमोशन हो जाने के बाद मैं बहुत खुश था और मैं चाहता था कि अपने प्रमोशन की खुशी में माधुरी और बच्चों को अपने साथ कहीं लेकर जाऊं। इसी बीच माधुरी ने मुझसे कहा कि मेरी सहेली कावेरी भी कह रही थी कि घूमने के लिए आना है मैंने माधुरी से कहा हां तो तुम कावेरी को भी बुला लो माधुरी ने कावेरी को फोन किया तो कावेरी भी आ गई लेकिन कावेरी के पति नहीं आए थे कावेरी के पति अपने काम के सिलसिले में कहीं बाहर गए हुए थे।

जब कावेरी घर पर आई तो मैंने कावेरी से पूछा तुम्हारे पति नहीं आए तो उसने मुझे बताया कि उसके पति अपने ऑफिस टूर के सिलसिले में कहीं गए हुए हैं और वह दो हफ्ते बाद लौटेंगे। मैंने कावेरी से कहा चलो कोई नहीं इस बहाने तुम्हें भी हमारे साथ समय बिताने का मौका मिल जाएगा। अब हम लोग घूमने के लिए साथ में जाने वाले थे और हम लोग उस दिन वाटर पार्क में चले गए सब लोगों ने बहुत ही इंजॉय किया और बच्चे भी बहुत खुश थे। कावेरी के बच्चे भी बहुत खुश थे और बच्चे साथ में बहुत इंजॉय कर रहे थे सब कुछ बहुत ही अच्छा लग रहा था और जब हम लोग शाम के वक्त घर लौटे तो माधुरी ने मुझे कहा कि तुम कावेरी को उसके घर तक छोड़ दो मैंने माधुरी से कहा ठीक है। कावेरी और उसके बच्चों को मैंने उसके घर तक छोडा, कावेरी ने मुझे कहा आप घर पर चलिए मैं कावेरी के घर पर चला गया कावेरी मुझसे बात करने लगी उसके बच्चे सो चुके थे। हम दोनो एक दूसरे से बात कर रहे थे लेकिन कावेरी की चूत में शायद खुजली हो रही थी इसलिए वह मुझसे अपनी खुजली मिटाने कि कोशिश करने लगी वह मेरी बाहों में आने की कोशिश कर रही थी मैंने उसके होठों को चूम लिया। जब मैं उसके होठों को चूम रहा था तो उस वक्त वह बहुत ही ज्यादा उत्तेजित होने लगी मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया था और उसके स्तनों को मैं दबाने लगा मैं उसके स्तनों को जिस प्रकार से दबा रहा था उससे उसकी गर्मी बढ़ती जा रही थी और मेरे लंड को वह बाहर निकालने की कोशिश करने लगी। मैंने अपनी पैंट को नीचे उतारा और अपने अंडरवियर से अपने लंड को बाहर निकाला। जब मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो वह मुझे कहने लगी आपके लंड को मैं आपके मुंह में लेना चाहती हूं? मैंने उससे कहा तुम मेरे लंड को अपने मुंह में समा लो उसने मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर समा लिया।

वह मेरे लंड को जिस प्रकार से चूस रही थी उससे मुझे बड़ा आनंद आ रहा था और वह बहुत ज्यादा खुश थी उसने बहुत देर तक मेरे लंड को चूसा जिस प्रकार से वह अपने मुंह के अंदर लंड को लेकर चूस रही थी उससे मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे कि वह मेरे लंड से वीर्य बाहर निकाल कर छोड़ेगी और उसने जब मेरे लंड से वीर्य बाहर निकाला तो उसने अपने मुंह के अंदर मेरे वीर्य को समा लिया। अब वह इतनी ज्यादा उत्तेजित हो गई थी कि उसने अपने कपड़े उतारते हुए अपने दोनों पैरों को मेरे सामने चौड़ा कर दिया जब उसने अपने पैरों को मेरे सामने चौड़ा किया तो मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर लगाया। मैने जब उसकी चूत पर मेरा लंड लगाया तो मेरा लंड उसकी चूत में जाने के लिए बेताब था मैंने उसके दोनों पैरों को चौड़ा करते हुए उसकी चूत के अंदर अपने लंड को घुसा दिया और जैसे ही मैंने उसकी चूत में अपने लंड को घुसाया तो वह चिल्लाते हुए मुझे कहने लगी तुम्हारा लंड तो बहुत मोटा है मुझे अपनी चूत में तुम्हारे लंड को लेकर मजा आ रहा है।

मैंने भी उसके पैरों को खोल कर उसे धक्के देने शुरू कर दिए थे मैं उसे बड़ी तेजी से धक्के मार रहा था और उसकी चूत के अंदर बाहर अपने लंड को करने मे मुझे बड़ा ही आनंद आ रहा था। मैंने जिस प्रकार से उसकी चूत के मजे लिए उससे वह मुझे कहने लगी तुम मुझे ऐसे ही चोदते रहो। मैं अब उसे डॉगी स्टाइल में चोद रहा था वह मुझे कहने लगी मुझे बड़ा ही मजा आ रहा है मैंने उसकी चूत के अंदर बाहर अपने लंड को करना शुरू कर दिया। जब मैं उसकी चूतड़ों पर तेजी से प्रहार कर रहा था तो मुझे बड़ा आनंद आ रहा था मैंने उसकी चूतड़ों को कस कर पकड़ा हुआ था। वह मुझे कहने लगी आकाश थोड़ा और तेजी से चोदो तुम्हारा लंड मेरी चूत के अंदर तक नहीं जा पा रहा है। मैंने उसे कहा रुको अभी तुम्हारी चूत के अंदर तक अपने लंड को घुसाता हूं। मैंने उसे इतनी तेज गति से धक्के देना शुरू किए कि वह चिल्लाते हुए मुझसे कहने लगी मुझे बहुत मजा आ रहा है।  मैं बहुत ही ज्यादा खुश था मैं उसकी चूत के मजे ले रहा था उसे चोदने में मुझे इतना मजा आया, मैंने आज तक माधुरी के साथ इस प्रकार से सेक्स नहीं किया था। मैंने उसे तेजी से धक्के मारने शुरू किए और जिस प्रकार से मैं उसकी चूत के मजे ले रहा था उससे वह बहुत तेजी से सिसकियां ले रही थी वह मुझे कहने लगी कि मुझे बहुत मजा आ रहा है वह झड़ने वाली थी वह बिस्तर पर लेट चुकी थी। मैं कावेरी की चूत के अंदर बाहर अपने लंड को किए जा रहा था तो उसे मजा आ रहा था वह मुझे कहने लगी क्या ऐसे ही तुम मुझे चोदते रहोगो? मैंने उसे बहुत देर तक चोदा और जिस प्रकार से मैंने उसकी चूत मारी उससे मेरी इच्छा भी पूरी हो चुकी थी और मेरा वीर्य मैने कावेरी की चूतड़ों पर गिरा दिया था। मैंने और कावेरी ने अब अपने कपड़े पहन लिए थे कुछ देर तक मैं कावेरी के साथ बैठा रहा फिर मैं अपने घर लौट चुका था।

Best Hindi sex stories © 2017
error: