Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

दूसरी पत्नी की सील तोडी

Antarvasna, hindi sex kahani: संजना और मेरे बीच में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा था इसलिए हम दोनों ने डिवोर्स लेने का फैसला कर लिया था। हम दोनों का डिवोर्स हो जाने के बाद मैं चंडीगढ वापस लौट आया था। मेरी मुलाकात संजना से दिल्ली में ही हुई थी दिल्ली में जब मेरी मुलाकात संजना से हुई तो हम दोनों के बीच प्यार बढ़ता चला गया और हम दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया लेकिन हम दोनों की शादी ज्यादा समय तक चल ना सकी और हम दोनों को डिवोर्स लेना पड़ा। हम दोनों की शादीशुदा जीवन के टूटने का मुख्य कारण यह रहा कि हम दोनों एक दूसरे को बिल्कुल भी समय नहीं दे पाते थे ना हीं मेरे पास संजना के लिए समय होता और ना हीं संजना मुझे समझ नहीं पाती थी इसी कारण हम दोनों ने एक दूसरे से अलग होने का फैसला कर लिया। हालांकि मैं फिर भी संजना के लिए सब कुछ मैनेज करने के लिए तैयार था लेकिन वह अपने करियर को लेकर इतनी ज्यादा सोचती थी कि शायद हम दोनों के रिश्ते के टूट जाने की वजह सबसे ज्यादा वही थी।

मैं उसके बाद चंडीगढ़ आ चुका था और चंडीगढ़ में मैं अपना नया जीवन शुरू करना चाहता था। मेरी नई जिंदगी शुरू हो चुकी थी क्योंकि मैं चंडीगढ़ अपने पापा मम्मी के साथ रहने लगा था दिल्ली में मैं और संजना साथ में रहा करते थे। जब मैं चंडीगढ़ आया तब ना तो मेरे पास तो नौकरी थी और ना ही मेरे दोस्त चंडीगढ़ में थे लेकिन मैंने उसके बावजूद भी एक छोटा सा काम शुरू कर लिया। जब मैंने काम शुरू किया तो उसके बाद मैं काम पर पूरा ध्यान देने लगा सब कुछ बदलता चला गया और उसी दौरान मेरी मुलाकात पायल के साथ हो गई। जब मैं पायल से पहली बार एक पार्टी के दौरान मिला तो मुझे काफी अच्छा लगा और पायल से मिलकर मैं काफी खुश भी था उसके बाद हम दोनों एक दूसरे को मिलने लगे और एक दूसरे को हम लोग डेट करने लगे। मैं ज्यादा से ज्यादा समय पायल को देने लगा था पायल को मैंने अपने बारे में सब कुछ बता दिया था कि मेरी शादी पहले हो चुकी थी लेकिन हम दोनों एक दूसरे को समय नहीं दे पा रहे थे इस कारण हम दोनों की शादी टूट गई।

पायल को इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी पायल ने भी मुझे बताया कि उसकी सगाई तय हो गई थी लेकिन किसी कारण से उसकी सगाई टूट गई। हम दोनों शायद एक दूसरे के लिए बिल्कुल ठीक थे क्योंकि मैं पायल को अच्छे से समझता था और पायल भी मुझे अच्छे से समझती थी इसीलिए हम दोनों एक दूसरे के साथ काफी खुश थे। मैं जब भी पायल के साथ होता तो मेरी सारी समस्या जैसे पल भर में दूर हो जाती थी। एक दिन मैं घर पर ही था उस दिन मुझे संजना का फोन आया संजना चाहती थी कि मैं उससे मिलूं, संजना जॉब करने के लिए विदेश जा रही थी और वह चाहती थी कि उससे पहले मैं एक बार मिल लूँ इसलिए मुझे कुछ दिनों के लिए दिल्ली जाना पड़ा। मैं कुछ दिनों के लिए दिल्ली चला गया मैंने पायल को यह बात बता दी थी। जब मैं संजना से मिला तो मुझे संजना से कोई भी शिकायत नहीं थी और ना ही संजना को मुझसे कोई शिकायत थी क्योंकि हम दोनों ने एक दूसरे से डिवोर्स अपनी मर्जी से ही लिया था। संजना से मिलकर मुझे अच्छा लगा और संजना ने मुझे बताया कि वह अब जॉब करने के लिए विदेश जा रही है मैंने उसे उसके आगे के भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी। संजना ने मुझसे पूछा कि अविनाश कहीं तुम्हारे दिल में मुझे लेकर कोई बात तो नहीं है तो मैंने संजना से कहा नहीं अब मैं अपनी नई जिंदगी शुरू कर चुका हूं। मैंने उसे पायल के बारे में भी बताया तो वह कहने लगी कि मैं चाहती हूं कि तुम और पायल एक दूसरे के साथ खुश रहो। उस दिन संजना बहुत ज्यादा भावुक हो गई थी इसलिए वह मेरे गले लग गई और कहने लगी कि अविनाश तुम अपना ध्यान रखना और उसके बाद संजना वहां से जा चुकी थी। संजना के चले जाने के बाद मैं भी वहां से चंडीगढ़ लौट आया था। मैं जब चंडीगढ़ वापस लौटा तो मैं पायल से मिला मैंने पायल को इस बारे में बताया तो पायल मुझे कहने लगी कि क्या संजना हमेशा के लिए वहीं रहना चाहती है? मैंने उससे कहा कि मैंने यह तो उससे नहीं पूछा लेकिन वह खुश है और मैं भी तुम्हारे साथ खुश हूं। पायल और मैं दूसरे के साथ बहुत खुश थे हम दोनों एक दूसरे के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताने की कोशिश करते हैं।

मैं पायल को पूरी तरीके से समझ चुका था कि वह मेरे लिए बिल्कुल सही है और अब हम दोनों एक दूसरे के साथ अपने आगे का जीवन बिताना चाहते थे। मैंने इस बारे में पूरा फैसला कर लिया था कि मैं और पायल हम एक दूसरे से जल्दी शादी कर लेंगे पायल को इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी और जल्दी हम दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया। जब हम दोनों ने शादी करने का फैसला किया तो मैं बहुत ही ज्यादा खुश था और पायल भी बहुत खुश थी। आखिरकार वह दिन भी आ ही गया जब हम दोनों ने शादी कर ली और हम दोनों एक दूसरे से शादी कर के बहुत ही खुश थे। पायल मेरी पत्नी बन चुकी थी और मैं इस बात से बहुत खुश था कि मैं और पायल अब एक दूसरे के साथ अच्छे से समय बिता पाएंगे और हम दोनों एक दूसरे का ध्यान भी रख पाएंगे। शादी की पहली रात पायल मेरे साथ मेरी बाहों में लेटी हुई थी वह मुझे कहने लगी अविनाश मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं मैंने भी उसके होठों को तुरंत ही चूम लिया उसके नर्म होठों को चूमकर मुझे बहुत ही अच्छा लगा।

अब वह मेरी बाहों में आ चुकी थी मेरे साथ सेक्स करने के लिए वह तैयार थी। मैं उसे किस करने लगा तब तक मैं उसे चूमता रहा जब तक कि उसके बदन से पूरी गर्मी बाहर नहीं आ गई वह बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो गई थी और मुझे कहने लगी मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो चुकी हूं उस से एक पल भी रहा नहीं जा रहा है। मैं अब उसे चोदने के लिए तैयार था मैंने जब उसके सामने अपने लंड को किया तो वह मेरे लंड को देखती ही मेरे लंड को अपने हाथों से हिलाने लगी और मुझे कहने लगी तुम्हारा लंड बहुत ही ज्यादा मोटा है उसने अपने मुंह के अंदर मेरे लंड को ले लिया। पायल बिल्कुल भी शर्मा नहीं रही थी वह मेरा पूरा साथ दे रही थी मैं इस बात से बड़ा खुश था जब संजना और मैंने पहली बार एक दूसरे के साथ सेक्स किया था तो उस दिन संजना बहुत शर्मा रही थी। पायल ने जब मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर बाहर करना शुरू किया तो वह मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी जैसे कि मेरे लंड से वह पानी बाहर निकाल देगी और मैंने उससे कहा मुझे तुम्हारी चूत के अंदर अपने लंड को घुसाना है। उसने अपने कपड़े उतारे और मेरे सामने वह नंगी लेटी हुई थी मैं उसे देख कर अपने लंड को हिलाए जा रहा था। मैंने जब उसके स्तनों पर अपने मुंह से चूसना शुरू किया तो उसको बहुत ही अच्छा लग रहा था वह मेरा साथ बड़े ही अच्छे से दे रही थी अब मैंने उसके स्तनों को इतना देर तक चूसता रहा कि उसकी गर्मी पूरी तरीके से बढ़ चुकी थी और वह कहने लगी मैं तुम्हारे लंड को अपनी चूत में लेने के लिए तड़प रही हूं। मैंने भी झट से उसकी चूत पर अपनी जीभ को लगाया और जीभ से उसकी चूत को मैं तब तक चाटता रहा जब तक उसकी योनि से पानी बाहर नहीं आ गया अब पायल बहुत ही ज्यादा मचलने लगी थी। उसकी चूत से बहुत ज्यादा पानी निकल आया था इसलिए वह मेरे लंड को अपनी चूत में लेने के लिए पागल हो गई थी। मैंने भी अपने मोटे लंड को उसकी योनि पर सटाया और अंदर की तरफ घुसाना शुरू किया मेरा लंड धीरे-धीरे उसकी चूत के अंदर तक जाने लगा तो वह  बहुत जोर से चिल्लाने लगी।

मैंने जैसे ही एक झटके के साथ अपने लंड को उसकी योनि के अंदर घुसाया उसके मुंह से चीख निकली और वह कहने लगी मेरी सील तुमने तोड़ दी है। मैंने जब उसकी चूत की तरफ देखा तो मुझे बहुत ही अच्छा महसूस हो रहा था। मैं उसे बड़ी तेज गति से धक्के मार रहा था जिस तीव्र गति से मैं उसे चोद रहा था उससे मुझे मज़ा आ रहा था और वह भी मेरा साथ बड़े अच्छे से दे रही थी मैं बहुत ही ज्यादा खुश था और वह भी बहुत ज्यादा खुश हो रही थी उसने अपने पैरों को खोल लिया था जिससे कि मेरा लंड उसकी योनि के अंदर बाहर बड़ी तेजी से हो रहा था उसकी चूत से निकलता हुआ पानी मेरे लंड पर लग रहा था जिस से कि मेरा लंड चिकना होने लगा।

मुझे उसे चोदने में मजा आने लगा था मैं उसे बड़े अच्छे से चोदता रहा काफी देर तक मैंने उसको ऐसे ही चोदा लेकिन जब मुझे महसूस होने लगा कि मेरा माल बाहर की तरफ को गिरने वाला है तो मैंने उसे कहा कि मुझे लग रहा है मेरा माल गिरने वाला है तो वह कहने लगी तुम अपने माल को मेरी चूत के अंदर ही गिरा दो। मैंने अपने माल को उसकी चूत के अंदर ही गिरा दिया जिस से कि उसकी इच्छा पूरी हो गई और मेरे अंदर की गर्मी भी पूरी हो चुकी थी। मुझे उसे चोदने में बड़ा ही मजा आया पायल बहुत ही ज्यादा खुश हो गई थी कि मैं उसे अच्छे से चोद पाया पायल की चूत मार कर मैं बहुत खुश था पहली बार मैंने उसकी चूत मारी थी और वह मेरे लंड को लेकर बड़ी खुश थी। मै इस बात से बड़ा खुश था कि मुझे सील पैक टाइट माल मिला जिसे कि मैं अच्छे से चोद पाया। उसके बाद तो मेरे और पायल के बीच हर रोज सेक्स संबंध बनते हैं और मैं उसे हर रोज चोदा करता हूं वह मेरा ध्यान भी बहुत अच्छे से रखती है। हम दोनों के बीच किसी भी बात को लेकर कोई भी परेशानी नहीं है यदि कभी कुछ ऐसा हो जाता है तो पायल मुझसे बात कर लिया करती है।

Best Hindi sex stories © 2017
error: