Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

डॉक्टर का लंड-1

desi sex stories हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आकाश है, मेरे घर में हम चार लोग है। मेरे पिताजी जिनकी उम्र 42 साल, मेरी माँ उनकी उम्र 36 साल, मेरी दीदी उनकी उम्र 22 साल और मेरी उम्र 18 साल है। दोस्तों मेरी माँ दिखने में बहुत ही सेक्सी औरत है। उनके बूब्स का आकार 34-30-36 है और उनके बूब्स और गांड को देखकर तो किसी के भी लंड से पानी निकल जाए। दोस्तों मेरी माँ मुझसे और मेरे अंकल से अपनी चुदाई करवाकर बहुत खुश थी और मैंने भी जमकर उनकी चुदाई के बड़े मस्त मज़े, लिए इसलिए में भी पूरी तरह से संतुष्ट था। एक दिन मम्मी ने मुझे अपने पास बुलाया और कहा कि आकाश बेटा शायद तुमसे चुदाई करवाने की वजह से इस महीने मुझे पीरियड्स नहीं आए है और इसलिए मुझे लगता है कि शायद उस चुदाई की वजह से मेरे गर्भ में तुम्हारा बच्चा ठहर गया है।

अब हमे जल्दी से हॉस्पिटल जाकर इस बात को पूरी तरह से संतुष्ट कर लेना चाहिए वरना इसकी वजह से हमारे सामने कोई समस्या खड़ी ना हो जाए। फिर हम दोनों तैयार होकर हॉस्पिटल चले गये वो रविवार का दिन होने की वजह से हॉस्पिटल में ज़्यादा भीड़ नहीं थी और हम लोग वहां पर आखरी मरीज थे। फिर डॉक्टर ने मम्मी को अपने कमरे के अंदर बुला लिया और उनको पूछा कि आपको क्या समस्या है? मम्मी ने कहा कि मुझे इस महीने पीरियड्स नहीं आए है और इस बात से मेरे मन में डर है कि कहीं बच्चा ना ठहर गया हो। अब डॉक्टर ने कहा बच्चा ठहर गया तो उसमे क्या समस्या है? यह तो बड़ी खुशी की बात है। अब मम्मी ने उनको अंकल और मुझसे चुदाई की बात डॉक्टर को साफ साफ बता दी जिसको सुनकर डॉक्टर का लंड पेंट के अंदर ही तनकर खड़ा हो गया। फिर वो मम्मी का मुआयना करने लगा और उसने मम्मी से लेटने के लिए कहा और जब मम्मी लेट गयी तो उसने पहले स्टैथौस्कोप अपने कानो में लगाकर मम्मी की छाती पर रख दिया और फिर धीरे धीरे वो सहलाने लगा। अब माँ ने भी डॉक्टर का लंड उसकी पेंट के ऊपर से ही सहलाना शुरू कर दिया और पूरा मुआयना करने के बाद डॉक्टर ने उनको कहा कि आप अभी गर्भवती नहीं है और फिर वो इतना कहने के बाद तुरंत ही मेरी मम्मी के मुहं में अपने मुहं को लगाकर उनको चूमने लगा था।

फिर कुछ देर बाद मम्मी भी गरम हो चुकी थी। उस कमरे में पूरा माहोल गरम हो चुका था। अब माँ ने जोश में आकर अपने सभी कपड़े एक एक करके उतार दिए और डॉक्टर ने भी यह सब देखकर बिना देर किए अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए। दोस्तों बस फिर क्या मस्त नज़ारा था वो? माँ ने नीचे झुककर डॉक्टर के लंड को तुरंत अपने मुहं में ले लिया और वो लगी उसको चूसने और डॉक्टर ने भी माँ के बूब्स को दबाना शुरू कर दिया और वो उनको चूसने भी लगा था। अब माँ के मुहं से ऊओहू आआहह्ह्ह की आवाज़ निकलने लगी थी। अब डॉक्टर ने उनकी गोरी चिकनी और बिना बालो वाली चूत में अपनी उंगली को डाल दिया और वो लगा उसको अंदर बाहर करने। अब मेरी माँ के मुहं से वो आवाज़ और तेज़ आने लगी थी वो ऊऊऊह्ह्ह्ह ऊफ्फ्फ्फ़ हाँ फाड़ दो तुम आज मेरी चूत को इसमे तुम अपनी सारी उँगलियाँ डाल दो। अब वो जोश भरी बातें सुनकर डॉक्टर का हाथ तेज़ी से चलने लगा और चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी। फिर डॉक्टर झट से उनकी दोनों जाँघो के बीच में बैठ गया और अपने लंड से मेरी माँ की चूत पर निशाना लगाकर एक ही झटके से उसने अपने लंड को पूरा अंदर डाल दिया। फिर वो उनके ऊपर ही लेटकर धनाधन धक्के लगाने लगा था।

अब माँ ने अपने पैर को डॉक्टर की कमर पर रखकर डॉक्टर को जकड़ लिया और वो ज़ोर ज़ोर से अपने कूल्हों को उठा उठाकर अपनी चुदाई में डॉक्टर का पूरा पूरा साथ देने लगी थी। दोस्तों डॉक्टर भी अब मेरी माँ का वो जोश देखकर उतना अनाड़ी नहीं रहा और वो उनके बूब्स को मसलते हुए धकाधक धक्के लगा रहा था और पूरा कमरा उनकी चुदाई की जोश भरी सिसकियों की आवाज़ से भरा पड़ा था। अब माँ जोश में आकर अपनी कमर को लगातार हिलाकर अपने दोनों कूल्हों उठा उठाकर चुदाई के मज़े ले रही थी और वो बोले जा रही थी, आहह्ह्ह ऊओह्ह्ह ऊऊहहह हाँ मेरे राजा में मर गई हाँ ऐसे ही धक्के देकर चोदो ऊईईईईईई माँ फट गई आज तो मेरी चूत, ऊफ्फ्फ आज तूने मेरा तो पूरा जूस निकाल दिया रे तू बड़ा जालीम है रे तेरे लंड ने एकदम मूसल की तरह मेरी चूत का मसाला पीस दिया, वाह मज़ा आ गया तेरे लंड में बड़ा दम है, मुझे तेरी चुदाई बड़ी पसंद आई। फिर डॉक्टर भी जोश में आकर बोल पड़ा, ले मेरी रानी तुझे पसंद आया ना मेरा लंड तो तू ले मेरा पूरा लंड पूरा अंदर तक ले अपनी ओखली में। अब माँ कहने लगी उफ्फ्फ हाँ इस तरह की चुदाई के लिए में बड़ा तरसी हूँ यह लंड अब बस मेरा ही है आहह्ह्ह उऊहह वाह क्या जन्नत का मज़ा दिया है रे तूने मुझे में तो अब तेरी गुलाम हो गई हूँ।

अब माँ ख़ुशी से अपनी गांड को उछाल उछालकर डॉक्टर का लंड अपनी चूत में ले रही थी और डॉक्टर भी पूरे जोश के साथ उनके बूब्स को मसल मसलकर मेरी माँ को तेज धक्के देकर चोदे जा रहा था। अब माँ डॉक्टर को उसकी तेज दमदार चुदाई करने के लिए ललकार कर कहने लगी, हाँ लगाओ धक्के मेरे राजा दिखाओ मुझे आज तुम अपने लंड की असली ताकत। फिर डॉक्टर भी जवाब देते हुए बोला हाँ यह ले मेरी रानी ले और अंदर तक ले अपनी चूत में मेरा लंड तेरी चूत को आज मेरा लंड खाकर वो मज़ा आएगा जो पहले कभी नहीं आया होगा। अब माँ उसकी बातें सुनकर तेज धक्के खाकर जोश में आकर बोली हाँ ज़रा और ज़ोर से सरकाओ अपना लंड मेरी चूत में मेरे राजा तुम मेरी चूत का आज भोसड़ा बना दो। फिर डॉक्टर बोला हाँ यह ले मेरी रानी, तू यह ले मेरा लंड यह तो तेरे लिए ही है। अब माँ कहने लगी कि देखो मेरे राजा मेरी चूत तो अब बस तेरे लंड की पूरी तरह से दीवानी हो चुकी है और ज़ोर से हाँ और ज़ोर से आईईईई मेरे राजा में गई। फिर यह सब कहते हुए मेरी माँ ने डॉक्टर को कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया और उसी समय उनकी चूत ने ज्वालामुखी का वो लावा छोड़ दिया, जिसको वो बड़ी देर से बचाए बैठी थी।

अब तक डॉक्टर का भी लंड वीर्य निकालने वाला था और वो बोला, लो अब में भी आया मेरी जान और उसने भी अपने लंड से वीर्य छोड़ दिया, जिसकी वजह से उसका वो जोश ठंडा होता चला गया और फिर वो हांफते हुए माँ के बूब्स पर अपने सर को रखकर उनसे कसकर चिपककर लेट गया। अब भी मेरी माँ नंगी ही लेटी हुई थी। फिर तभी डॉक्टर ने अपने पास काम करने वाले को बुलाया और उसको मेरी माँ को चोदने के लिए कहा। फिर बिना देर किए उस काम करने वाले ने भी अपने पूरे कपड़े उतारे और उसी समय अपना लंड मेरी माँ के होंठो पर लगाकर कहा कि ले चूस ले ना ऐसे क्या देखती है अब तू इसका पूरा मलाई वाला दूध चूसकर पी ले और इतना कहकर उसने अपने लंड को माँ के मुहं की तरफ धकेल दिया और अब माँ उसके लंड को भी अपने मुहं में भरकर चूसने लगी और फिर कुछ देर बाद वो उसके लंड को किसी अनुभवी रंडी की तरह अंदर बाहर करके ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी। उस समय मेरी माँ के मुहं से उम्म्म्म उम्म्म अहह की आवाज़ आ रही थी। दोस्तों उस काम करने वाले का लंड अब पूरी तरह से तनकर पूरा बड़ा हो चुका था और वो मेरी माँ की जमकर चुदाई करने के लिए एकदम तैयार नजर आ रहा था और बहुत जोश में भी था।

दोस्तों माँ भी अब रुक नहीं पा रही थी। उनकी चूत भी अपनी दूसरी दमदार चुदाई के मज़े लेने के लिए तरस रही थी और माँ की चूत भी अब उसका लंड पाने के लिए बहुत बेकरार थी और उसका लंड भी अब मेरी माँ की चूत से पहली बार मिलने के लिए बेकरार था। अब माँ एकदम सीधी लेट गयी और उसने उसको इशारा करके अपनी चुदाई का निमंत्रण दे दिया, वो भी तुरंत ही माँ के ऊपर आ गया और एक ही झटके में उसने माँ की चूत में अपना पूरा लंड डाल दिया। अब माँ भी नीचे से अपनी कमर को उठाकर लंड और चूत दोनों को आपस में मिलने में पूरा सहयोग देने लगी थी और वो दोनों उस समय इस प्रकार से मिल रहे थे कि मानो कि वो बरसो बाद मिल रहे हो। फिर उसने अपने धक्कों की रफ्तार को बढ़ाते हुए पूछा, अब क्या करूँ मेरी रानी? माँ उसको बोली अंदर तक तो तूने कर दिया अब तू मुझसे पूछता है क्या करूँ? चल गांडू कहीं का, माँ ने उसके होंठो को चूम लिया और वो कहने लगी हाँ ऐसे ही किए जा जैसे तेरी इच्छा हो, क्योंकि तू बड़ा अच्छा कर रहा है। अब वो माँ के मुहं से वो बातें सुनकर खुश होकर जोश में आकर वैसे ही तेज धक्के लगाने लगा था और माँ की चूत भी नीचे से उनका जबाब दे रही थी जिसकी वजह से बड़ी घमासान चुदाई चल रही थी।

अब माँ के मुहं से सिसकियों की आवाज निकलने लगी आह्ह्ह ऊऊईईईईईई यह क्या कर रहा है रे ज़ोर से धक्के देकर चोद मेरे राजा हाँ ऐसे ही चोदो तुम मेरी यह चूत भी कम नहीं है हाँ ऐसे कस कसकर तुम धक्के मारो मेरे राजा, चोदो ज़ोर से मेरी चूत को जो हर समय ऐसी जबर्दस्त चुदाई के लिए बेचैन रहती है, हाँ चोदो डाल दो पूरा अंदर। अब तो वो भी तूफान मैल की तरह तेज धक्के देकर चुदाई करने लगा था। चूत से पूरा लंड निकलता और पूरी गहराई तक जा रहा था, जिसकी वजह से वो दोनों स्वर्ग की हवाओ में बड़े मज़े से उड़ने लगे थे। अब वो कहने लगा वाह क्या मस्त मज़ा आ रहा है मेरी रानी, खा जमकर, ले तू इसको पूरा अंदर तक ले। फिर माँ भी जोश में आकर कहने लगी ऊफ्फ्फ हाँ मेरे राजा और ज़ोर से मुझे बड़ा मस्त मज़ा आ रहा है और ज़ोर से ओह्ह्ह माँ ओह्ह्ह मेरे राजा मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। फिर वो भी अब ऊपर से कस कसकर धक्के पे धक्के लगाते हुए बोल रहा था हाँ यह ले मेरी रानी तुम्हारी चूत ने तो आज मेरे लंड को पागल बना दिया है, जो में इस सुंदर चूत का दीवाना हो गया हूँ। में ऐसे ही चोद चोदकर जब तक तुम चाहोगी जन्नत की सैर करूँगा, रानी मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। फिर माँ भी बोली ऊईईईईईई चोदो हाँ ऐसे ही चोदो और ज़ोर से चोदो मेरे राजा।

Best Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme