Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

दीदी की सहेली गुल खिलाती थी

kamukta, antarvasna आज मै आपको मेरी दीदी की सहेली के विषय में कुछ सुनाने के लिए जा रहा हूँ | मेरी दीदी एक गल्स होस्टल में रहा करती थी | मै उन से मिलने के लिए उनके गल्स होस्टल पर जाया करता था | एक दिन मुझे वो करने का अवसर मिला जिसके लिए मै अपनी दीदी के गल्स होस्टल पर जाता था | उसकी एक पुरानी सहेली थी जो उससे मिलने के लिए घर पर आती थी | तब मैंने मेरी दीदी की उस सहेली को अपने घर पर ही चोदा | चलो अब मै सुनाता हूँ मैंने अपनी दीदी की उस सहेली को कैसे चोदा था | मेरी दीदी छुट्टी बनाने के लिए मेरे घर पर आया करती थी | जब मेरी दीदी छुट्टी बिताने के लिए मेरे घर आती थी तब उनकी कुछ सहेली उन से मिलने के लिए मेरे घर आती थी | मेरी दीदी की एक पुरानी सहेली भी थी | जो की मेरे घर से कुछ दूरी पर रहा करती थी | मेरी दीदी उनकी सहेली से मिलने के लिए उनके घर पर जाती थी | इसके आलावा मेरी दीदी भी उनकी सहेली से मिलने के लिए उनके घर पर जाती थी |

एक दिन जब मै घर पर अकेला था तब मेरी दीदी की वो सहेली मेरी दीदी से मिलने के लिए आई हुई थी तब उस समय दीदी घर पर नही थी | तब मैंने वो किया जिसके लिए मुझे एक शानदार अवसर मिला था | चलो अब मै सुनाता हूँ की उस दिन क्या हुआ था | दीदी की सहेली घर पर थी तब उस समय घर पर रुका हुआ था | तब उनकी पुरानी सहेली ने मुझ से कहा की तुम्हारी दीदी कहा पर गयी हुई है तब मेरे कहने पर उनकी पुरानी सहेली ने मुझ से कहा की मै तुम्हारा दीदी का इन्ताजार कर सकती हूँ | तब मुझे एक अवसर मिला की मै उस लड़की की चुदाई कर सकू | मैंने फिर अपनी दीदी की पुरानी की सहेली से कहा की क्या आपको कुछ खाना है | तब उस लड़की ने मुझ से कहा की हा मेरे लिए कुछ खाने के लिए ले आओं | तब मै उस लड़की के लिए खाने के लिए कुछ लेकर आया | मैंने उस लड़की को खाने के लिए फल दिया था |

जब उस लड़की ने फल खा लिया था तब मैंने उस लड़की के हातो को पकड लिया | उस लड़की के हातो को पकड़ने के बाद फिर मैंने उस लड़की के गाड को दबाने लगा | मेरी दीदी की वो पुरानी सहेली काफी मोटी थी | इसलिए उनके गाड भी काफी मोटे थे | फिर इसके बाद मैंने उनकी गाड को चाटने की कोशिशि करने लगा | जब मै उनकी गाड को चाटने की कोशिशि कर रहा था | तब मेरी दीदी की सहेली ने मुझ से कहा की क्या तुम बिना पजामा खोलो मेरी गाड को चाट सकते हो | तब मैंने दीदी की सहेली से कहा | चलो अब मै तुम्हारे पजामा खोल देता हूँ | फिर मैंने उनके पजामा को खोल दिया | जब मैंने उनके पजामा को खोला तो वो नंगी हो चुकी थी और उनकी गाड को मै साफ देख सकता था | फिर मैंने अपने मुह को उनकी गाड के अन्दर डाल दिया | उसके बाद फिर मैंने उनकी गाड को अपनी जीब से चाटने लगा | कुछ समय तक अपनी जीब से उनकी गाड को चाटने के बाद फिर मैंने उस लड़की से कहा अब तुम मेरा लंड चुसना शुरु कर दो | फिर मेरे कहने पर वो लड़की मेरा लंड को ऐसे चूसने लगी जैसे की मेरे लंड के उपर रस लगा हो | ऐसा ही हुआ कुछ समय तक मेरा लंड चूसने के बाद मेरे लंड से रस मलाई निकलने लगा |

जब मेरे लंड से रस मलाई निकल रहा था तब उस लड़की का चहरा मेरे लंड से निकल रहे रस मलाई से उसका चहरा भीगने लगा | उस लड़की का चहरा मेरे लंड से निकल रहे रस मलाई से भीग चूका था | फिर मैंने अपने जेब से एक रुमाल को बाहर निकाला | तब मैंने उस लड़की के हातो में उस रुमाल को पकड़ा दिया | जब उस लड़की ने मेरे दिया हुआ रुमाल लिया तब उस लड़की ने उसका चहरा मेरी दी हुई रुमाल से पूछा | इसके बाद फिर मैंने उस लड़की से कहा की आज के लिए इतना ही क्योकि अगर कोई आगया तो वो मुझे तुम्हारी चुदाई करते हुए मुझे पकड सकता है | उसी दिन उस लड़की ने मुझे उसका फोन नम्बर भी दिया था ताकि आगर मुझे उससे मिलना हो तो मै कभी भी उस लड़की से मिल सकता था | इतना ही नही मैंने उस लड़की के आलावा गल्स होस्टल की अन्य लडकियो को चोदा था | एक दिन मैंने उस लड़की से मिलने के लिए उसके गल्स होस्टल पर गया हुआ था | पहेले मैंने उस लड़की को फोन लगाया था और उसका हाल पूछने लगा | उसका हाल मालूम चलने के बाद फिर मै उस लड़की से मिलने के लिए मै उस लड़की के गल्स होस्टल पर चला गया | जब मै उस लड़की के गल्स होस्टल पर पहुच गया तो मैंने देखा की वो लड़की गल्स होस्टल के बाहर खड़ी थी | फिर मैंने उस लड़की से फोन पर कहा की मै गल्स होस्टल के बाहर आ चूका हूँ अपनी मोटरसाइकिल को लेकर | तब उस लड़की ने फोन पर मुझ से कहा की मै अपने पापा से कह चुकी हूँ की मै आज अपनी एक सहेली से मिलने के लिए उसके घर जाने वाली हूँ |

मेरी सहेली ने फोन पर मेरे पापा को कह चुकी है की वो मेरे घर पर रुकने वाली है | लेकिन मेरी सहेली ने एक बहाना किया है ताकि मै तुम्हारे साथ कही पर मोटरसाइकिल से आसानी से कही पर घूम सकू | मैंने उस लड़की को फिर अपने एक रिस्तेदार के घर पर लेकर गया | पहेले मैंने अपने उस रिस्तेदार को फोन लगाया और उससे कहा की आज मै तुम्हारे घर पर आज मै एक लड़की को लाने वाला हूँ | फिर मै उस लड़की को लेकर उस रिस्तेदार के घर पर पहुच गया | तब उस समय उस रिस्तेदार के घर पर कोई नही था तब मैंने उस लड़की से कहा जब मै मोटरसाइकिल चला रहा था की आज मै तुमको अपने एक रिस्तेदार के घर पर लेकर जा रहा हूँ इसलिए आज मै तुम्हारी चुदाई वही पर करने वाला हूँ | तब उस लडकी ने मुझ से कहा की हा चलो आज रासलीला तुमारे उस रिश्तेदार के घर पर करेंगे | तब कुछ समय के बाद मै उस लड़की के साथ अपने उस रिस्तेदार के घर पहुच गया | फिर मै अपने उस रिस्तेदार का एक कमरा लिया और उस लड़की को लेकर उस कमरे के अन्दर घुस गया | जब मै उस लड़की को लेकर एक कमरे पर घुस गया तब मैंने उस लड़की की चुदाई करना शुरु किया | उस लड़की को चोदने से पहले मैंने उस लड़की के कपडे को उतार दिया | तब उस लड़की ने टी शर्ट और लोवर पहना हुआ था | पहले तो मैंने उस लड़की के लोवर और टी शर्ट को उतार दिया | फिर वो लड़की ब्रा और चड्डी पहनी हुई थी | चुदाई के दौरान मैंने उस लड़की से कहा की आज मेरे बदन पर गर्मी सी चड्डी हुई है | इसलिए आज मुझे अपनी गर्मी को उतारना है | तुम्हारा बदन ही मेरी बदन की गर्मी को शान्त कर सकता है | फिर जब उस लड़की ने पेंटी और ब्रा सिर्फ पहनी हुई थी तब मैंने उस लड़की की गाड को दबाते हुए कहा की तुम्हरी गाड तो काफी मोटी है | तो उस लड़की ने मुझ से कहा की तुम्हे क्या करना है तुमको तो सिर्फ मुझे चोदना है |

उस लड़की से मिलना और उसकी चुदाई करना मेरे लिए एक बड़ा सुनहरा अवसर था | फिर मैंने अपना लंड अपनी पेन्ट से बाहर निकल दिया | फिर उस लड़की के कान पर बोला की आज तुम मेरे इस लम्बे लंड को क्या चूस सकती हो तब उस लड़की ने मुझ से कहा की हा चूस सकती हूँ | जब वो मेरी दीदी की सहेली मेरा लंड को चूस रही थी तब मेरे लंड से रस मलाई निकल रही थी | मेरे लंड से निकल रही रस मलाई की वजह से उस लड़की के मुह पर काफी रस मलाई गिर चुकी थी | फिर मैंने उस लड़की से कहा की क्या अब तुम मेरे लंड से निकल रही रस मलाई को पी सकती हो | तब उस लड़की ने वैसा ही किया | वो मेरे लंड से निकल रही रस मलाई को फिर पीने लगी | तब जब उस लड़की ने मेरे लंड की काफी रस मलाई को पी लिया था तब उस लड़की से मैंने कहा आज के लिए इतना ही रस मलाई को पियो | क्योकि अब मुझे चूत को चोदना है | तब मैंने समय को बर्बाद करे बिना फिर मै उस लड़की के चूत पर एक जोर दर अपना गरमा गर्म लंड उस लड़की के चूत में घुसा दिया | जब मेरा गरमा गर्म लंड उस लड़की की चूत के अन्दर घुस रहा था तब मै जोर से हल्ला भी कर रहा था और कह रहा था अह अह | फिर कुछ समय के बाद मेरे लंड से जोर दर मलाई की बरसात होने लगी | मेरे लंड से निकल रहे रस मलाई से उस लड़की का बदन भीग चूका था | फिर मैंने उस लड़की के भीगे हुए बदन को अपने हातो से मालिस करने लगा |

मै जब उस लड़की का बदन अपने हातो से मालिस कर रहा था तब उसका बदन फिसल रहा था क्योकि उसके बदन के उपर मेरे लंड की रस मलाई गिरी हुई थी | क्योकि उस दिन मुझे उस लड़की के साथ लम्बा समय बिताना था इसलिए उसके बाद फिर मै उस लड़की के बदन को अपनी जीब से चाटने लगा | फिर कुछ समय के बाद मैंने उस लड़की से कहा की अब मुझे चलना है तब वो लड़की उसके कपडे पहनने लगी | जब उस लड़की ने उसके कपडे को पहन लिया तब मै उस लड़की को छोड़ने के लिए उस लड़की के होस्टल पर गया | उस लड़की के होस्टल पर पहुचने पर उस लड़की ने मुझे धन्यवाद दिया | तब उस लड़की ने मुझ से कहा की तुम गल्स होस्टल के बाहर कुछ समय तक रुको क्योकि मैंने तुमारे लिए एक टी शर्ट और जीन्स खरीदकर लाई हूँ | फिर वो लड़की गल्स होस्टल के अन्दर चली गयी | उसके बाद वो लड़की गल्स होस्टल के अन्दर चली गयी और कुछ समय के बाद मेरे लिए कपडे लेकर आई | फिर मै अपने घर लौटकर आ गया | जब मै अपने घर लौटकर आ गया तब मैंने उस लड़की का दिया हुआ कपडे को पहना | उस लड़की का दिया हुआ कपडा काफी लाजवाब था | जब मै उस लड़की का दिया हुआ कपडे को पहना तब मेरी दीदी ने पूछा था की ये कपडे तुम्हे किसने दिया है तब मैंने मेरी दीदी को बताया की मुझे ये कपडे किसी ने दिया है |

एक दिन उस लड़की का फोन आया और उसने मुझ से कहा की तुम कहा पर हो क्योकि उस लड़की को उसकी एक सहेली से मिलने के लिए जाना था | जब मै मोटरसाइकिल चला रहा था तब वो लड़की मेरे पीछे बैठी हुई थी | वो लड़की जब मेरे पीछे बैठी हुई थी तब उस लड़की के दूद मेरी पीट से दब रहे थे | मै भी इस कोशिशि में था की जब तक वो लड़की मोटरसाइकिल पर बैठी हुई है तब तक मै गाडी का ब्रेक लगाता रहू ताकि उस लड़की के दूद मेरी पीट से दबते रहे | आखिरकार कुछ समय के बाद मै उसकी सहेली के घर तक पहुच गया और उस लड़की को उसकी सहेली के घर पर छोड़ने के बाद मै वहा से अपने घर लौटकर चला गया | फिर जब शाम हो रही थी तब उस लड़की ने मुझे फोन लगाया और मुझ से कहा की तुम कहा पर हो क्योकि मुझे अब अपनी सहेली के घर से लौटना है | तब मेरे पास अवसर था की मै उस लड़की को कही एक एकान्त वाली जगह पर लेकर चालू और वहा पर उस लड़की की चुदाई करू | कुछ समय तक एकान्त वाली जगह पर उस लड़की की चुदाई करता रहा |

Best Hindi sex stories © 2017
error: