Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

चूत से खून निकल रहा था

desi choot हाय फ्रेंड.. मे निकुंज हूँ। ओर यह मेरी न्यू स्टोरी हे. यह कहानी आरती
पर हे. आरती का अब 20 वा बर्थ डे था। उसके 2 भाई थे. दोनो बड़े. उसकी
मम्मी नही थी. उसके पापा ही उसके लिए सब कुछ थे. वो उसके पापा का सब कुछ
कहा मानती थी। उसको उसके दोनो भाइयो पर गर्व था। दोनो जिम जाकर अपनी
अच्छी हेल्थ बना ली
थी। उसके एक भाई का नाम था राजू और दूसरे का नाम था अनिल।
अब राजु, अनिल और उसके पापा सोच रहे थे की आरती को क्या गिफ्ट दी जाए जो
वो पूरी ज़िंदगी याद रखे. सबने कुछ डिसाइड किया.. अब क्या वो आगे पता चल
जाएगा। आज आरती का बर्थ डे है. वो रोज की तरह उठकर घर का काम कर रही थी.
पर आज उसे अपने भाइयो की नज़रे कुछ ठीक नही लग रही थी. वो उसे काफ़ी घूर
घूर कर देख रहे थे। आरती अपने मेक्सी मे काम कर रही थी. उसकी मेक्सी उसकी
गांड के उपर से थोड़ी सी फटी हुई थी।
आरती को लगा वो लोग वो छेद को देख रहे है इसलिए उसने मॅक्सी पर एक फोल्ड
कर दी. वो अब नीचे बैठकर सब्जी काट रही थी. राजू आया और फ़्रीज़ से पानी
की बोतल निकाली और पास मे बेठी आरती को किस किया और चला गया। फिर तुरंत
ही अनिल आया और ग्लास लेकर आरती के किस किया और चला गया. आरती को कुछ समज
नही आया और वो समझने के लिए बाहर हाल मे आई तो दोनो वही हॉल के सोफे पर
बैठे थे और पापा एक चेयर पर।
सामने टेबल पर एक केक रखा था. सब लोग उठे और आरती को केक काटने के लिए
कहने लगे. आरती जेसे ही केक पर लगी कॅंडल को भुजाने जुकी, राजू ने उसके
मॅक्सी का फोल्ड कीच दिया.. आरती के मॅक्सी का छेद उसे दिकने लगा। वो देख
कर राजू हंसने लगा. आरती शरमा गयी।
आरती ने झट से मॅक्सी के छेद पर हाथ रकने के लिए बडाया तो पापा ने अनिल
और राजू को कुछ इशारा किया. दोनो भाई ने आरती के हाथ पकड़ लिए… पापा ने
आरती के छेद को फाड़ना चालू किया.. आरती का पूरा मेक्सी फट गया था।
आरती चिल्लाती रही.. पर मदद करने कोन आता. पापा और दोनो भाई ने आरती का
गाउन निकाल दिया. अब वो सिर्फ़ पेंटी मे थी. और उसने ब्रा भी नही पहनी
थी। अनिल ने आरती का हाथ पकड़ लिया और राजू ने आरती के पीठ.. पापा ने
आरती के पेरो के बीच मे आकर अपनी पेंट उतार दी.. आरती तो ये देखकर दंग ही
रह गई.,. पापा का लंड तो एक हाथी के लंड की तरह था। आरती ने सोचा भी नही
था की ऐसा भी होगा।
पापा ने लंड तुरंत ही आरती की चूत पर रगड़ने लगे. आरती की चूत जरा भी
गीली नही थी. पर इस बात का पापा पर कुछ फर्क नही था. उनको तो सिर्फ़ अपनी
बेटी को रांड की तरह चोदना था। उन्होने फट से आरती के चूत मे अपना लंड
घुसा दिया. आरती को चिल्लाते देख सब को मज़ा आ रहा था. और एक शॉट मारते
ही पापा का आधा लंड आरती की चूत मे था. आरती जैसे बेहोश सी हो गयी थी.
उसकी चूत से खून निकल रहा था. राजू जल्दी से आरती के सर को पकड़ कर उसे
थप्पड़ मारने लगा. आरती कुछ होश मे आने लगी तभी राजू ने भी अपने लंड को
पेंट से बाहर निकाल कर आरती के मुह मे डाल दिया।
आरती ने उसको मुह मे रखा ही था अभी पापा ने और एक शॉट मारा. पापा का पूरा
लंड अपनी कुवारी बेटी के चूत मे था. आरती की आँखों से पानी आ रहा था. वो
रोने लगी थी. अब राजू ने उसके नाक पकड़ ली. आरती ने उसके मूह सांस लेने
के लिए खोला तो उसने अपने लंड काफ़ी अंदर तक डाल दिया. आरती को सास लेने
मे तकलीफ़ होने लगी। पापा ने नीचे आरती को फटाफट शॉट मारने चालू कर दिए.
आरती को दर्द के साथ साथ अब मज़ा भी आने लगा. अब उसकी चूत गीली भी होने
लगी।
अब वो पापा पापा कर के आहे भी भरने लगी.. ये देख कर अनिल ने आरती के हाथ
छोड़ कर अपना लंड भी निकाल दिया. यहा पापा जट जट धक्का मारने लगे. आरती
की तो साँसे फूल ही गयी थी,,,, वो अब जड़ने वाली थी और पापा भी… पापा ने
अपना सारा पानी आरती के अंदर छोड़ दिया… अब पापा शांत हो गये… आरती भी थक
गयी थी पर उसके भाई अभी बाकी थे। राजू ने आव देखा ना ताव.. उसने आरती के
अंदर अपना लंड डाल ही दिया। पापा के लंड से थोडा छोटा था और आरती की चूत
गीली होने के कारण उसका लंड आराम से चला गया।आरती को अब दर्द तोड़ा ही हो
रहा था. आरती अब फुल साथ दे रही थी. राजू अब शॉट पर शॉट मारने लगा..
पापा से काफ़ी जोरदार धक्के मार रहा था. आरती को भी काफ़ी मजा आ रहा था.
आरती भी सिसकिया निकाल कर मज़ा ले रही थी. राजू भी जल्द ही जड़ गया।
आरती को भी पता था की अब अनिल की बारी है. पापा और राजू, आरती के बोब्स
से खेलने लगे. दोनो एक एक करके आरती के बोब्स मूह मे लेकर मज़ा कर रहे
थे.. अनिल ने भी अपने पापा के जेसे जोश मे शॉट मारने लगा… वो भी जड़
गया.. चारो वही पर सो गये. उस दिन बस आरती को चोद चोद कर उसकी चूत का
भोसड़ा बना दिया।
यह था आरती का सर्प्राइज़ गिफ्ट….. तो दोस्तो केसी लगे मेरी ये स्टोरी।

Best Hindi sex stories © 2017 Frontier Theme