Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

चूत का सेक्सी मायाजाल

Antarvasna, hindi sex stories: कॉलेज के समय से ही मैं काजल को बहुत पसंद करता था लेकिन काजल ने कभी भी मेरी तरफ देखा ही नहीं। काजल बहुत ही अच्छी लड़की है और मुझे वह बहुत ही अच्छी लगती है परंतु काफी समय से काजल से मेरा कोई संपर्क हो नहीं पाया है। मैं भी अपने पापा के बिजनेस को संभाल रहा हूं और उनके बिजनेस में मैं इतना ज्यादा बिजी हो गया हूं कि मेरे पास अपने लिए बिल्कुल भी समय नहीं हो पाता है मैं अपने लिए समय निकाल ही नहीं पाता हूं।

मेरी जिंदगी सिर्फ शाम तक ही सीमित रह गई थी मैं सुबह घर से निकलता हूं और रात को घर लौटता हूं। मैं जब भी घर लौटता तो मुझे काफी ज्यादा थकान महसूस होती जिस वजह से मुझे जल्दी नींद आ जाया करती है। मैं 30 वर्ष का हो चुका हूं और कई बार पापा मम्मी मुझे कहते हैं कि बेटा तुम शादी कर लो लेकिन मैं उन्हें हमेशा ही कहता कि अभी मैं शादी नहीं करना चाहता हूं परंतु अब वह लोग मुझ पर शादी के लिए काफी ज्यादा दबाव बनाने लगे थे। हमेशा ही वह लोग मुझे शादी को लेकर कहते तो मुझे भी उनकी बात माननी पड़ी और मैंने उनसे कहा कि ठीक है मैं शादी करने के लिए तैयार हूं। मैं अब शादी करने के लिए तैयार हो चुका था और पापा मम्मी भी इस बात से बहुत खुश थे। पापा ने मेरी शादी में किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं रखी और मेरी शादी बड़ी ही धूमधाम से हुई।

हमारे सारे रिश्तेदार बहुत ही खुश थे लेकिन शायद मैं अपनी शादी से बिल्कुल भी खुश नहीं था। मैं अपनी पत्नी को उसका हक कभी भी दे ना सका उसे मुझसे हमेशा ही शिकायत रहती। वह मुझे कहती कि आप मुझे कभी भी टाइम नहीं देते। मैं उसे कभी स्वीकार कर ही नहीं पाया था वह तो मेरे घर वालों की जिद थी कि मैं शादी कर लूं इसीलिए मैंने शादी कर ली। मैंने कभी भी अपनी पत्नी को समय नहीं दिया जिस वजह से उसके और मेरे रिश्ते में दरार पैदा होने लगी थी। वह हमेशा ही मुझे कहती थी की मैं एक दिन आपको छोड़ कर चली जाऊंगी। एक दिन वह समय भी आ गया जब वह मुझे छोड़ कर चली गई वह अपने मायके जा चुकी थी इस बात से मैं काफी ज्यादा परेशान हो गया था।

मैंने उसे समझाने की कोशिश की लेकिन वह वापस नहीं लौटना चाहती थी और मुझे कहने लगी की मैं वापस नहीं लौटना चाहती हूं। मेरी पत्नी चाहती थी कि मैं उसे डिवोर्स दे दूं लेकिन मैंने उसे किसी प्रकार से मनाया और वह घर वापस आ चुकी थी। मैंने एक दिन पापा और मम्मी से कहा कि मैं संगीता को कुछ दिनों के लिए अपने साथ घुमाने के लिए लेकर जाना चाहता हूं तो पापा ने कहा कि हां बेटा तुम चले जाओ। मैं कुछ दिनों के लिए संगीता को लेकर मनाली चला गया और मैं जब मनाली गया तो उस वक्त वहां पर मुझे काजल दिखी काजल ने मुझे देखते ही पहचान लिया और वह मुझसे बातें करने लगी। यह सब मेरी पत्नी को बिल्कुल भी पसंद नहीं आया और वह गुस्से में होटल में चली गई मैंने तो कभी भी सोचा नहीं था कि मुझे काजल मनाली में दिखेगी।

काजल अपने दोस्तों के साथ मनाली घूमने के लिए आई हुई थी और मैं बहुत ज्यादा परेशान हो गया था कि आखिर काजल से कितने समय बाद मेरी मुलाकात हो पाई है और वह भी ऐसी स्थिति में मेरी मुलाकात उससे हुई कि मेरी पत्नी मुझसे नाराज हो गयी। मैं अब होटल में गया और अपनी पत्नी को समझाने की कोशिश करने लगा मैंने उसे समझाया तो वह मेरी बात मान गई। हम लोग कुछ दिनों तक मनाली में रहे इतने दिनों तक हम लोग मनाली में रहे तो मैंने काजल से उसका नंबर भी ले लिया था।

अब हम लोग वापस चंडीगढ़ लौट आए थे हम लोग चंडीगढ वापस लौट आए थे और मैं अपने काम पर ध्यान देने लगा। मेरी बात काजल के साथ हो नहीं पाई थी मैं चाहता था कि मैं काजल से फोन पर बात करूं लेकिन अभी तक उससे मेरी कोई भी बात नहीं हो पाई। एक दिन मुझे काजल का फोन आया जब मुझे काजल का फोन आया तो उसने मुझे बताया कि वह अपनी जॉब के लिए दिल्ली जा रही है। मैंने काजल को कहा कि तुम मुझे कितने समय बाद मिली हो तुमसे मिलकर मुझे काफी अच्छा लगा तो काजल ने मुझसे कहा कि मुझे भी तुमसे मिलकर काफी अच्छा लगा। मैं काजल को कभी भी अपने दिल की बात कह नहीं पाया था लेकिन अब मेरी शादी हो चुकी थी इसलिए मैं नहीं चाहता था की यह बात मेरी पत्नी को पता चले कि हम दोनों बातें करते हैं।

मैं जब भी काजल से बातें करता हूं तो मैं उससे चोरी छुपे बातें किया करता था हालांकि काजल और मेरे बीच में ऐसा कुछ भी नहीं था लेकिन मेरी पत्नी मुझ पर काफी ज्यादा शक करने लगी थी इसलिए मुझे उससे चोरी छुपे ही बातें करनी पड़ रही थी। हम दोनों एक दूसरे से बातें करते तो हम दोनों को अच्छा लगता। मैं अपनी पत्नी को भी अब समय देने लगा था उसके साथ अच्छे से टाइम स्पेंड करता जिससे कि वह भी खुश रहती। जब भी मुझे मौका मिलता तो मैं उसे घुमाने के लिए लेकर जाता। मेरी पत्नी को मैं काफी ज्यादा प्यार करने लगा और हम दोनों बहुत ही अच्छे से रहने लगे थे। मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा लगता है जब भी मैं और मेरी पत्नी साथ में होते हैं और हम लोग साथ में समय बिताया करते है।

एक दिन मै काजल से फोन पर बातें कर रहा था उस दिन मेरी पत्नी अपने मायके गई हुई थी। उस दिन देर रात तक मैंने काजल से फोन पर बातें की। काजल उस दिन कुछ ज्यादा ही गरम बातें मुझसे करने लगी थी उसने मुझे अपनी नंगी तस्वीर भेज दी। मैंने उसकी नंगी तस्वीरें देखकर अपने बाथरूम में जाकर हस्तमैथुन किया। मुझे नहीं मालूम था  काजल और मेरे बीच इस प्रकार की बातें हो जाएगी। मैं उसके बदन को महसूस करना चाहता था और मै उससे गरमा गरम बातें करने लगा था। वह भी बहुत ज्यादा खुश थी। वह मुझे हर रोज खुश कर दिया करती। एक दिन मैंने काजल से कहा मैं तुमसे मिलने के लिए आ रहा हूं। काजल भी मेरी बात मान गई और उस दिन से उस से मिलने के लिए दिल्ली गया था।

वह बहुत ज्यादा खुश थी हम दोनों एक दूसरे के साथ बैठे हुए थे। काजल ने मेरी गर्मी को बढ़ा दिया था उसके फिगर की कल्पना से ही मेरा माल बाहर निकलने लगा था। मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया और मैं उसके बदन को महसूस करने लगा। मैं काजल के बदन को महसूस किए जा रहा था मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा था। मै उसके बदन को महसूस कर रहा था और हम दोनों ही बहुत ज्यादा गर्म होने लगे थे। हम दोनों की गर्मी बढ़ती जा रही थी। काजल और मैं एक दूसरे की गर्मी को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे। मैंने काजल के सामने अपने लंड को किया तो काजल ने उसे अपने मुंह में ले लिया और वह उसे चूसने लगी। जिस तरीके से काजल मेरे लंड को संकिग कर रही थी उससे मुझे अच्छा लग रहा था और उसने मेरे लंड से पानी भी बाहर निकाल कर रख दिया था।

मेरी गर्मी को उसने पूरी तरीके से बढा कर रख दिया था मैं बहुत ज्यादा गरम हो चुका था। काजल और मैं एक दूसरे की गर्मी को पूरी तरीके से बढा चुके थे इसलिए मैंने भी उसके बदन से कपड़े उतार कर जब उसकी ब्रा को उतारा तो उसके बड़े स्तन देखकर मैं उसके स्तनों को दबाने लगा। मै उसके स्तनों को जब दबाने लगा तो उसे मज़ा आने लगा और वह कहने लगी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। हम दोनों को ही बहुत अच्छा लगने लगा था और हम दोनों की गर्मी बढ़ने लगी थी। मैंने काजल को कहा मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लगने लगा है।

काजल और मै एक दूसरे की गर्मी को इतना बढा चुके थे मैं उसके स्तनों को अच्छे से चूस रहा था और फिर मैंने उसकी पैंटी को नीचे उतारते हुए उसकी चूत को चाटना शुरु कर दिया था। उसकी चूत को चाटकर मुझे मजा आने लगा था। जब मैं उसकी चूत को चाट रहा था तो वह पूरी तरीके से गरम होने लगी थी। मुझे भी बहुत ज्यादा गर्मी का एहसास होने लगा था मैं उसकी चूत को बर्दाश्त नहीं कर सका और उसकी योनि पर अपने मोटे लंड को लगाया और अंदर की तरफ घुसाना शुरू किया। मेरा लंड उसकी चूत में जा चुका था वह बहुत जोर से चिल्ला रही थी। वह मुझे कहने लगी मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है वह बहुत ज्यादा उत्तेजित होने लगी थी। अब हम दोनों की गर्मी बहुत ही ज्यादा बढ़ चुकी थी मैंने उसे कहा मुझे तुम्हारी चूत मारने में बहुत ज्यादा मजा आ रहा है। मैं उसकी चूत अच्छे से मारे जा रहा था और मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा था जब मैं उसकी योनि के अंदर बाहर अपने लंड को किए जा रहा था।

मेरा मोटा लंड उसकी योनि के अंदर बाहर हो रहा था और उसकी चूत की चिकनाई बढ़ती ही जा रही थी। मेरा लंड बहुत ज्यादा कड़क हो चुका था और मुझे उसे चोदने में इतना ज्यादा मजा आ रहा था मैं एक पल के लिए भी अब रह नहीं पा रहा था। मैंने काजल को कहा मैं तुम्हारी चूत की गर्मी को नहीं झेल पा रहा हूं वह भी समझ चुकी थी मेरा माल गिरने वाला है। उसने मुझे कहा मुझे तुम्हारी चूत मारने में मजा आ रहा है मैं उसे बड़ी तेज गति से धक्के मार रहा था और मैंने उसे बहुत देर तक ऐसे ही धक्के दिए। जब मैं उसे चोद रहा था तो मेरा माल उसकी चूत में गिर गया। काजल की चूत से मेरा माल गिरते ही वह बहुत खुश हो गई और मुझे बोली आज मुझे मजा आ गया। मैंने काजल को कहा मुझे भी आज बहुत ज्यादा मजा आ गया।

Best Hindi sex stories © 2017