Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

बदले की भावना-1

desi sex kahani हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विनोद है, में गुजरात का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र 25 है। दोस्तों में अभी कुछ दिनों से सेक्सी मज़ेदार कहानियों के मज़े लेने लगा हूँ। एक दिन मेरे मन में भी अपनी उस सच्चाई को लिखकर आप सभी को बताने के बारे में विचार आ गया और मैंने इसको आप सभी के लिए बड़ी मेहनत से लिखकर तैयार कर दिया। दोस्तों यह मेरी अपनी सच्ची घटना, मेरा पहला सेक्स अनुभव है और में आज पहली बार लिखकर इसको आप सभी सेक्सी कहानियों को पढ़कर मज़ा लेने वालो तक पहुंचा रहा हूँ और में उम्मीद करता हूँ कि यह मेरी सत्य घटना आप सभी को जरुर पसंद आएगी और अब इसको सुनाना शुरू करता हूँ। दोस्तों यह उन दिनों की बात है जब में 10th में पढ़ता था और तब में 18 साल का था। उस समय मेरे पड़ोस में एक परिवार रहता था, उसमे चार लड़कियाँ और दो लड़के और उनके मम्मी पापा रहते थे। उस घर की सबसे बड़ी लड़की का नाम राधा था और वो 25 साल की थी, दूसरी लड़की का नाम मयूरी वो 23 साल की थी, तीसरी लड़की का नाम जयश्री और उसकी उम्र तब 18 साल थी और चौथी लड़की का नाम विमला था और वो 14 साल की थी। उनका एक भाई भी मेरी ही उम्र का था और दूसरा छोटा मतलब कि वो करीब 7 साल का होगा।

दोस्तों यह कहानी सन 1999 की है, हम दोनों घरों के बीच में बहुत अच्छे रिश्ते होने की वजह से हम सभी लोग बहुत घुलमिल कर बातें और हँसी मज़ाक किया करते थे। दोस्तों जयश्री बहुत सुंदर होने की वजह से हमारे बीच बहुत अच्छी बनती थी, वो उस समय 12th में थी और हम दोनों की लिखावट एक जैसी ही थी और इसलिए हम दोनों आपस में स्कूल का काम भी किया करते थे, कभी वो मेरा काम कर देती तो कभी में उनका काम किया करता था। हमारा यह सिलसिला ऐसे ही बहुत दिनों तक चलता रहा और फिर एक दिन हम दोनों ने आपस में अपने उस प्यार का इज़हार कर दिया, जिसको हम दोनों बहुत दिनों से अपने मन में लेकर बैठे हुए थे। अब हम दोनों काम करने के बहाने प्यार की बातें करने लगे थे और हम दोनों एक दूसरे को देखे बिना नहीं रहते थे। फिर हम हर कभी कहीं ना कहीं किसी भी बहाने से मिलने लगे थे और हम दोनों का बहुत सारा समय एक साथ ही गुजरने लगा था। एक दिन उनके नाना का एक खत आया और उसमे अंकल के लिए लिखा हुआ था कि आपकी सास की मतलब कि जयश्री की नानी बहुत बीमार है और इसलिए घर के काम करने के लिए आप अपनी किसी एक बेटी को यहाँ पर भेज दो।

दोस्तों सबसे बड़ी लड़की राधा की शादी हो चुकी थी और उसको छोटी वाली लड़की मयूरी वहां पर जाना नहीं चाहती थी और सबसे आखरी की लड़की विमला उस समय उम्र में छोटी थी और इसलिए वो घर के कामो को नहीं कर सकती थी और अब वहां पर जाना तो जयश्री को ही था इसलिए वो चली गई। फिर हम दोनों एक दूसरे से अलग होकर बहुत बहुत रोए, लेकिन क्या करे हमारी मजबूरी थी? और फिर हम दोनों कुछ दिनों के लिए अलग हो गये। फिर हम दोनों एक महीने तक चिठ्ठी लिखकर अपना हालचाल पूछते रहे और उसके बाद में चिठ्ठी लिखता, लेकिन उसका मुझे कोई भी जवाब नहीं मिलता था। अब में इस बात की वजह से बहुत ज्यादा परेशान सा रहने लगा था, लेकिन मुझे नहीं पता था कि उसको वहां पर जाकर क्या हुआ? जो वो अब मुझे मेरी चिठ्ठियों का जवाब नहीं दे रही थी और करीब दो महीनों के बाद वो वापस आ गई। अब में उसको देखकर बहुत खुश हो गया, में उसको मिलने के लिए बड़ा उतावला हो गया था, लेकिन वो अब मुझसे दूर रहने लगी थी और मुझे उसका मेरे लिए यह बिल्कुल बदला हुआ व्यहवार बहुत अजीब सा लगा। अब मैंने यह बात भी जानने की बहुत कोशिश कि वो मेरे साथ ऐसा बदला हुआ सा व्यहवार क्यों कर रही है? लेकिन उसने मुझे कुछ भी नहीं बताया और मैंने उसको यह बात जानने के लिए अपनी तरफ से बहुत बार नाकाम कोशिश की, लेकिन मुझे उस बात का पता नहीं चला।

फिर मैंने देखा कि वो अब उसकी छोटी बहन विमला के साथ अपनी सभी तरह की बातें करती थी और अब मैंने मन ही मन में ठान लिया था कि अब में इसका बदला उसको जरुर लूँगा और वो इसका बदला मुझे एक दिन जरुर चुकाएगी। दोस्तों उसकी बहन विमला जो अब 10th में आ चुकी थी और में 12th में आ गया था, मतलब कि हमारे बीच उस बात को पूरे दो साल गुजर चुके थे। फिर एक बार विमला को उसके पेपर के समय उसकी मदद करने के लिए मुझसे उसके घरवालों ने कहा और उनके पापा मेरी वो बात मान गये। अब वो मेरे पास हर दिन एक या दो घंटे अपनी पढ़ाई करने लगी थी और फिर धीरे धीरे मैंने उसको भी पटा लिया और इस वजह से वो भी अब मेरी बिल्कुल दीवानी हो चुकी थी। एक दिन उसका अच्छा मूड देखकर मैंने पढ़ाई के बाद विमला से उसकी बड़ी बहन जयश्री के बारे में पूछा, लेकिन वो चुप रही। फिर उसको बहुत बार पूछने दबाव डालने पर उसने मुझे सब कुछ सच बता दिया और फिर मुझे उस दिन पता चला कि वो किसी परेश नाम के उसके मामा के साले को प्यार करने लगी थी। दोस्तों वो लड़का भी उन्ही दिनों में जयश्री के नाना के घर पर कुछ दिन रहने आया था, तब वो मुझे छोड़कर उसके नाना के घर गई थी और उन दिनों एक साथ रहने की वजह से वो अब एक दूसरे को बहुत प्यार करने लगे थे।

दोस्तों बस फिर क्या था? में यह सभी सच्ची बातें जानकर बहुत रोया मुझे बहुत दुःख हुआ कि जयश्री ने किसी दूसरे लड़के की वजह से मुझे छोड़ दिया, वो अब मेरा सच्चा प्यार भुलाकर उस लड़के को प्यार करने लगी थी, जिसके साथ वो बस कुछ दिन ही रहकर आई थी और उसने मेरा इतने महीने के प्यार को भुला दिया था, लेकिन फिर मैंने अपना मुड ठीक किया। फिर उसके बाद मैंने मन ही मन में एक द्रड़ निश्चय कर लिया था और अब में पूरा विचार बनाकर लग गया था, विमला के पीछे मुझे अब कैसे भी करके उसको पाना था। एक साल बाद मयूरी और जयश्री दोनों की एक साथ ही शादी हो गई और अब उनके घर पर उनकी मम्मी, पापा दो भाभियाँ और विमला ही रह गई थी और विमला उन दिनों मेरी इतनी दीवानी हो चुकी थी कि वो मेरे बिना रह नहीं सकती थी। दोस्तों विमला उसके पेपर खत्म हो जाने के बाद अब मेहँदी का कोर्स करने लगी थी और दो महीने में वो उस काम में इतनी अनुभवी हो गई थी कि अब वो शादी के ऑर्डर में मेहँदी लगाने भी जाने लगी थी और इस बिच में उसको हर सात दिन में बाहर मिलने जाता था। फिर उसके बाद हम दोनों पूरे दिन में तीन चार घंटे साथ में रहते थे और फिर उसके बाद हम दोनों घूम फिरकर वापस अपने घर आ जाते।

एक दिन मैंने उसको पूछा तुम मुझे क्या दे सकती हो? वो मुझसे कहने लगी कि में आपके लिए तो में अपनी जान भी दे दूँगी, बोलो क्या आपको मेरी जान चाहिए? अब में उसको बोला कि नहीं मुझे तेरी जान नहीं तुमसे और कुछ चाहिए। फिर वो बोली कि अब तो में पूरी आपकी हो चुकी हूँ आप चाहे तो मुझसे बिना पूछे भी ले सकते हो। अब मैंने उसको कहा कि हाँ ठीक है हम किसी होटल में चलते है, वो बोली कि हाँ ठीक है जैसी आपकी मर्ज़ी। फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है अभी नहीं हम दो दिन बाद होटल में जाएँगे ठीक है, तुम तैयार होकर आ जाना? वो कहने लगी कि हाँ ठीक है में आ जाउंगी। फिर वो दो दिन के बाद अपने पापा को घर पर झूठ कहकर निकली कि मेहन्दी का एक बड़ा काम है, जिसकी वजह से हो सकता है कि मुझे वहां पर देर हो जाए और हो सकता है कि मेरी पूरी रात भी वहां पर निकल जाए, इसलिए आप ज्यादा परेशान मत होना में अपने आप आ जाउंगी। फिर हम दोनों एक अच्छी होटल में जाकर मिले वो क्या मस्त सज संवरकर आई थी जैसे आज उसकी शादी हो, वो बहुत सुंदर लग रही थी। दोस्तों वो चोली पहनकर आई थी, में उसको देखते ही मन ही मन में उसकी चुदाई के सपने देखने लगा था और में बहुत खुश हो गया कि आज में जयश्री का पूरा बदला उसकी बहन से और अपने दिल की पूरी भड़ास में निकाल लूँगा।

Best Hindi sex stories © 2017
error: